पटना आइसा ने नीट यूजी परीक्षा में हुई धांधली के खिलाफ राज्यव्यापी प्रतिरोध दिवस आयोजित किया। पाटलिपुत्र विवि में प्रदेश अध्यक्ष प्रीति व सचिव कॉ सबीर ने संयुक्त रूप से सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि केन्द्र और राज्य में बैठी डबल इंजन की सरकार NEET UG परीक्षा में हुई धांधली पर चुप्पी साधे बैठी है। देश की सबसे बङी प्रतिस्पर्धा वाली परीक्षा में NTA द्वारा अनियमितता लगातार बढ़ती जा रही है और अभ्यर्थीयों का भविष्य कुचला जा रहा है। याद रहे मामला सुप्रीम कोर्ट में भी पहुंच चुका है।

आइसा नेताओं ने कहा कि देश में 45 वर्षो में बेरोजगारी दर 21.11% से ऊपर है। रेलवे में केन्द्र सरकार के अधीन 30 लाख रिक्त पद हैं। तमाम सरकारी सेक्टरों में बहाली करने के बजाय पदों को समाप्त किया जा रहा है। निजीकरण और बाजारीकरण की ओर अमादा है। ऐसे में केंद्र सरकार उच्च शिक्षा को अभिजात वर्गों को आरक्षित करनी चाहती है। मेडिकल के क्षेत्र में मजदूर-किसान वर्ग के छात्र-छात्राओं को महरूम कर रही है। नेताओं ने NEET UG 2024 के परीक्षा को रद्द करने की मांग की। साथ ही कहा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी पर उच्च स्तरीय जांच कर जल्द से जल्द सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। पुनः नीट यूजी परीक्षा आयोजित की जाए। NTA द्वारा  CUET-UG, PG Net की परीक्षा लेने पर अविलंब रोक लगाया जाए।

—————–

रूपौली में उपचुनाव 10 को, फिर विधायकी के लिए लड़ेंगी बीमा

—————-

बिहार भर में प्रतियोगिता परीक्षा प्रश्नपत्र के लीक होने के मामले सामने आ रहे हैं। BPSC 67 वीं के प्रश्नपत्र लीक, बिहार पुलिस भर्ती के प्रश्न पत्रलीक, BPSC TRE-3 के प्रश्नपत्र लीक ऐसे उदाहरण बिहार के लोगो के सामने हैं और अब NEET UG में धांधली देश के चिकित्सा संस्थान को अंधकार में लाने का प्रयास है। बिहार सरकार इसपर ठोस पहलकदमी उसी वक्त लेना चाहिए था जब 5, मई को NEET UG की परीक्षा ली गई जबकि 4, मई को ही प्रश्नपत्र लीक के विडिओ के साथ फोटो भी वायरल हो गई थी लेकिन NEET UG पेपर को रद्द करने के बजाय परीक्षा परिणाम जो 14 जून को दिया जाना था उसे 2024 लोकसभा चुनाव का रिजल्ट 4 जून को दिया गया। जहां देश भर के लोग लोकसभा के परिणाम जानने में व्यस्त थे और इधर NEET का रिजल्ट आनन फानन में 4 जून को दे दी जाता है जिसमें एक ही संस्थान से छः अभ्यर्थी टॉपर है। यहां 720 अंक में 720/717/ 718 /719 इस तरह के अंक प्राप्त हैं। यह साफ-साफ अपारदर्शीता को दर्शाता है। पटना और कोटा में नीट यूजी अभ्यर्थी ने खुदकुशी कर ली। लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि NEET UG में हुए धांधली के सारे सबूत मिलने के बावजूद परीक्षा को रद्द कराने के बजाय परीक्षा की प्रकिया को आगे बढ़ा रही है।

सिर्फ दो मंत्री बनाए जाने से जदयू में असंतोष

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420