देश रेत में दफन लाशों से परेशान, भाजपा को टूलकिट की चिंता

देश रेत में दफन लाशों से परेशान, भाजपा को टूलकिट की चिंता

भारतीय कभी इतने मजबूर न थे। अंतिम संस्कार में घी-चंदन छोड़िए, रद्दी टायर से प्रशासन शव जला रहा। रेत श्मशान बना है। वहीं भाजपा के दिग्गज टूलकिट पर चिंतितं।

हम भारत के लोग कभी इतने बेबस न थे। कहते हैं किसी सभ्य समाज की पहचान इस बात से होती है कि वह अपने मृतकों को किस सम्मान के साथ अंतिम विदाई देता है। आज हालत यह है कि लोगों श्मशान घाट के बजाय गंगा किनारे रेत में परिजनों के शव दफना रहे हैं।

वहीं आज भाजपा के सारे दिग्गज सोशल मीडिया पर इस बात के लिए सक्रिय हैं कि कांग्रेस मोदी सरकार को बदनाम कर रही है। भाजपा के सारे बड़े नेता #CongressToolkitExposed कांग्रेस टूलकिट एक्सपोज्ड पर ट्विट कर रहे हैं। खुद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इस हैशटैग के साथ ट्विट किया कि कांग्रेस देश को बांटने औरजहर उगलने में माहिर है। वह टूलकिट से बाहर आकर कुछ रचनात्मक कार्य करे।

दरअसल भाजपा के बड़े नेता कांग्रेस के एक तथाकथित पत्र को खूब शेयर कर रहे हैं। उसमें लिखा है कि किस प्रकार अपने सेवा कार्य को प्रचारित करना है। कैसे सरकार पर सवाल उठाना है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने उस पत्र का एक हिस्सा शेयर किया है, जिसमें लिखा है कि कुंभ कोरोना का सुपर स्प्रेडर बना। राहत ने लिखा कि कांग्रेस हमारी संस्कृति को दुनिया में बदनाम करना चाहती है।

उधर, जवाब में कांग्रेस ने कहा कि पार्टी का लोगो फर्जी ढंग से इस्तेमाल करके फर्जी पत्र मीडिया में फैलाया जा रहा है। पार्टी ने भाजपा पर मुकदमा कर दिया है। मुकदमा भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, संबित पात्रा सहित कई नेताओं पर किया गया है। कहा गया है कि इन नेताओं ने पार्टी के फर्जी लेटरपैड का इस्तेमाल करके फर्जी लेटर सोशल मीडिया में फैलाया। कांग्रेस समर्थक #BJPLiesIndiaCries बीजेपी लाइज इंडिया क्राइज हैशटैग चला रहे हैं।

कांग्रेस ने कहा कि उनके कार्यकर्ता जिस तरह महामारी में लोगों की मदद कर रहे हैं, उससे भाजपा परेशान हो गई है, लेकिन वे डरनेवाले नहीं हैं। सुप्रिया भारद्वाज ने ट्विट किया-हम अब चुप बैठने वाले नही ये सरकार 7 साल से सिर्फ़ diversion में लगे हैं- असली मुद्दे से ध्यान हटा कर झूठ में उलझते है हम इस नक़ली फ़र्ज़ी toolkit काग़ज़ से डरनेवाले नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*