हेमंत सोरेन को जन्मदिन पर स्तालिन ने दी सबसे अलग बधाई

हेमंत सोरेन को जन्मदिन पर स्तालिन ने दी सबसे अलग बधाई

आज झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जन्मदिन पर देशभर से बधाइयां मिल रही हैं। सबसे अलग तरह की बधाई दी तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्तालिन ने।

कुमार अनिल

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव सहित देशभर के लोगों ने बधाई दी। बधाई संदेश में आमतौर से सबने हेमंत सोरेन के स्वास्थ्य और लंबी उम्र की कामना की। लेकिन सबसे अलग बधाई दी तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्तालीन ने।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्तालीन ने हेमंत सोरेन को भाई कहकर संबोधित करते हुए बधाई संदेश में कहा- अपने भाई और झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को जन्मदिन की शुभकामनाएं। आप देश में संघवाद और धर्मनिरेपक्षता के सबसे मजबूत और दृढ़ आवाजों में एक हैं। आप आदिवासी जनसमुदाय के अधिकारों के लिए सच्चे पथप्रदर्शक हैं।

स्तालिन ने हेमंत सोरेन को संघवाद और सेक्युलरिज्म की मजबूत आवाज कही। यह अनायास नहीं कहा गया है। देश में दो तरह के मुख्यमंत्री हैं। एक वे हैं, जो राज्य का नुकसान होने पर भी केंद्र सरकार के सामने मुंह नहीं खोलते। उन्हें अपनी कुर्सी जाने का भय रहता है। भय के अनेक कारण हैं। दिल्ली में कल फिर से सांप्रदायिक दंगा भड़ाने की साजिशवाले भड़काऊ नारे लगे, पर क्या अरविंद केजरीवाल ने यूएपीए लगाने की मांग की? कई मुख्यमंत्री राज्य के आर्थिक हित के सवाल पर केंद्र से सवाल-जवाब करते हैं, लेकिन एक समुदाय के खिलाफ जब दूसरे समुदाय को भड़काया जाता है, तो वोटबैंक की खातिर चुप हो जाते हैं।

जबकि झारखंड के मुख्यमंत्री ने आर्थिक-राजनीतिक हर मुद्दे पर राज्यों के अधिकार की मांग को केंद्र के समक्ष मजबूती से उठाया। जब प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना पर चर्चा की, तो उन्होंने एक तरफा बात की और इसे संवाद नाम दिया। संवाद का अर्थ है दोनों तरफ से बात हो। इसके बाद देश में केवल हेमंत सोरेन ही थे, जिन्होंने कहा था कि मन की बात के बदले काम की बात होनी चाहिए। हेमंत सोरेन ने कोरोना वैक्सीन की कीमत राज्यों से अधिक लिये जाने पर भी केंद्र से सवाल किया था।

स्कालरशिप बंद, नीतीश ने दलितों का भविष्य बर्बाद किया : तेजस्वी

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्तालिन ने जब कहा कि हेमंत सोरेन संघवाद और सेक्युलरिज्म की मजबूत आवाजों में एक हैं, तो उन्होंने यह भी इशारा कर दिया कि भविष्य में संघवाद और धर्मनिरपेक्षता की लड़ाई में वे साथ हैं। और गैर भाजपा शासित राज्यों की एकजुटता जरूरी होगी। स्तालीन के बधाई संदेश से स्पष्ट है कि हेमंत सोरेन सिर्फ झारखंड के मुख्यमंत्री ही नहीं हैं, बल्कि वे देश के प्रमुख नेता बी बन चुके हैं। स्तालीन ने सोरेन को आदिवासी समाज का पथप्रदर्शक कहा। यह भी खास है। जिस तरह जल-जंगल-जमीन पर कारपोरेट का कब्जा हो रहा है, उस स्थिति में आदिवासी समाज के अस्तित्व, पहचान और विकास के लिए भी मजबूत आवाज जरूरी होगी।

‘मुल्ले काटे जायेंगे..’ जैसे हिंसक नारे पर किसने क्या कहा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*