जागरण ने पहले पन्ने पर छाप दी फर्जी खबर, हो गई थू-थू

जागरण ने पहले पन्ने पर छाप दी फर्जी खबर, हो गई थू-थू। चुनाव नजदीक आ रहा है, जरा संभल के रहिएगा। रोजी-रोजगार के बदले नफरत का बाजार सजने लगा।

हिंदी अखबारों में सबसे अधिक बिकने का दावा करने वाले दैनिक जागरण से संभल कर रहिएगा। इसने पहले पन्ने पर ही मोटी हेडलाइन में फर्जी खबर छाप दी। लिख दिया-भारत ने पाकिस्तान पर फिर की सर्जिकल स्ट्राइक। यह सरासर फर्जी खबर निकली। खुद भारतीय सेना ने आगे आकर इस फर्जी खबर का खंडन किया। इसके बाद तो देशभर में जैगरण की थू-थू होने लगी।

नियम तो यह है कि अगर किसी अखबार में गलत खबर छपती है, तो अखबार की जिम्मेदारी है कि वह उसी स्थान पर अपनी खबर के लिए माफी मांगे, लेकिन आप जानते हैं, जिनका धंधा ही फर्जी खबर के आधार पर लोगों को गुमराह करना है, वे माफी नहीं मांगते। बहुत हुआ, तो किसी कोने में गलती छापेंगे, लेकिन वह भी इस तरह की गलती न लगे। गोल-मटोल ढंग से।

चुनाव नजदीक आ रहा है। अब तक सोशल मीडिया के जरिये खबरों का फर्जी धंधा चल रहा था, अब देश के बड़े अखबार भी फर्जी खबर छापेंगे और दुखद पहलू यह है कि हिंदी के अखबार ऐसा कर रहे हैं। अब नफरत फैलाने वाली खबरें परोसी जाएंगी, ताकि हिंदी बोलने वाले पाकिस्तान-मुसलमान की चर्चा में ही मशगूल रहे और रोजी-रोटी, बेटे की पढ़ाई की फीस, फसल की कीमत और दिनों-दिन अपनी बिगड़ती हालत को भूल जाएं।

सोशल मीडिया में दैनिक जागरण के इस फर्जी खबर के बाद लोग इस अखबार की जम कर बखिया उधेड़ रहे हैं। पत्रकार अजीत अंजुम ने कहा- दैनिक जागरण ने पहले पन्ने पर आठ कॉलम की ये फर्जी खबर छाप दी। जम्मू -कश्मीर के रिर्पोटर ने अगर ऐसी फर्जी खबर भेजी भी तो यहां बैठे संपादक की क्या जिम्मेदारी थी? इतनी बड़ी खबर को चेक क्यों नहीं किया गया ? या जानबूझकर छापा गया? ये मानकर कि सेना तो खंडन करेगी नहीं? भारतीय सेना से इस खबर का खंडन करके इसे Fake News साबित कर दिया है।

पत्रकार रोहिणी सिंह ने लिखा-लगता है दैनिक जागरण को ऊपर से चुनाव के आस पास छापने के लिए ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ का ड्राफ्ट भेजा गया था, खबर गलती से आज ही प्रकाशित हो गई। सोशल मीडिया में लोग जागरण पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैंस वहीं कई लोगों ने लिखा है कि ये सरकार कभी कार्रवाई नहीं करेगी।

मप्र में 50 % कमीशन का चौथा पत्र, BJP नेता ने भी लिखा नड्डा को लेटर

By Editor