JDU का 6 दिसंबर को हर जिले में संविधान बचाओ मार्च

JDU का 6 दिसंबर को हर जिले में संविधान बचाओ मार्च

JDU का 6 दिसंबर को हर जिले में संविधान बचाओ मार्च। पार्टी का अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ निकालेगा मार्च। पार्टी ने कहा संविधान विरोधी भाजपा का होगा सफाया।

बिहार प्रदेश जनता दल (यू0) के अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ द्वारा 6 दिसम्बर, दिन बृहस्पतिवार को राज्यभर के तमाम जिलों में संविधान बचाओ मार्च का आयोजन निर्धारित हुआ है। पूर्वाह्न 11ः00 बजे पार्टी जिला कार्यालय से इस मार्च को निकाला जायेगा एवं पार्टी के नेताओं द्वारा संविधान निर्माता डाॅ0 भीमराव अंबेदकर के प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की जायेगी।

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने सोमवार को स्वयं इस कार्यक्रम की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि केंद्र की मौजूदा सरकार द्वारा जिस प्रकार संवैधानिक मूल्यों पर कुठाराघात किया जा रहा है, उससे हर देशवासी आहत और चिंतित है। कुछ दिन पूर्व ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आर्थिक सलाहकार ने अपने लेख में संविधान में संशोधन की बात कही थी। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत भी आरक्षण को खत्म करने की बात कह चुके हैं। खासतौर पर मौजूदा समय में देश में जो स्थिति बनी हुई है वह संविधान मूल्यों के अनुरूप नहीं है।

उन्होंने कहा कि सत्ता की चाहत में भाजपा किसी भी हद तक जा सकती है। उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि जनता दल (यू) का संविधान में अटूट आस्था और श्रद्धा है। संवैधानिक मूल्यों के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ हमारी पार्टी स्वीकार नहीं करेगी। इसलिए हम लोगों ने 6 दिसंबर को प्रदेशभर में जिलास्तरीय संविधान बचाओ मार्च निकालने का निर्णय लिया है। जिसमें पार्टी के तमाम पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता बढ़चढ़कर हिस्सा लेंगे और केंद्र में बैठी संविधान विरोधी निरंकुश सरकार को ललकारने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि देश की जनता भाजपा के संविधान विरोधी कृत्यों से तंग आ चुकी है। 2024 में देश से इनका सफाया तय है।

दिल्ली में RSS के भारत रक्षा मंच के बैनर तले गुरु तेगबहादुर जी के बलिदान दिवस कार्यक्रम में एपी पाठक