बिहार में छुट्टी के कैलेंडर पर हंगामा, सरकार संशोधन को तैयार

बिहार में छुट्टी के कैलेंडर पर हंगामा, सरकार संशोधन को तैयार

बिहार में छुट्टी के कैलेंडर पर हंगामा, सरकार संशोधन को तैयार। रक्षा बंधन, मकर संक्रांति पर छुट्टी नहीं देने व ईद पर छुट्टी बढ़ाने को भाजपा ने बनाया मुद्दा।

बिहार का शिक्षा विभाग एक बार फिर विवादों में हैं। इसके एक निर्णय से राज्य की नीतीश सरकार के खिलाफ भाजपा ने हल्ला बोल दिया। विभाग ने 2024 के लिए छुट्टियों की जो सूची जारी की है, उसमें रक्षा बंधन और मकर संक्रांति पर छुट्टी नहीं दी गई तथा ईद की छुट्टी बढ़ा दी गई है। इसके बाद भाजपा के तमाम नेताओं ने नीतीश सरकार पर तुष्टीकरण का आरोप लगाते हुए हमला बोल दिया है। नौकरशाही डॉट कॉम को मिली जानकारी के अनुसार छुट्टी के कैलेंडर का निर्णय अधिकारियों के स्तर पर लिया गया और जैसे ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संज्ञान में मामला आएगा, वे इसमें बदलाव करेंगे। जदयू के सूत्रों ने कहा कि सरकार इसकी समीक्षा करके छुट्टियों की विसंगति जल्द दूर करेगी। राजद नेताओं ने भी शिक्षा विभाग के इस निर्णय पर आश्चर्य जताया। माना जा रहा है कि राज्य सरकार जल्द ही इस आदेश को खारिज करेगी।

उधर भाजपा के तमाम नेताओं ने नीतीश सरकार पर हमले तेज कर दिए हैं। केंद्रीय मंत्री और बेगूसराय के सांसद गिरिराज सिंह ने शिक्षा विभाग के इस निर्णय को तुगलकी फरमान कहा। भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा कि हिन्दू त्यौहारों की छुट्टियों को रद्द करना हिन्दू विरोधी मानसिकता का परिचायक है। मोदी ने ट्वीट करके उपमुख्यंत्री तेजस्वी यादव को घेरा। कहा तेजस्वी यादव के बयान की मंदिर में घंटी बजाने से पेट नहीं भरता है के २४ घंटे के भीतर हिंदू पर्व त्योहार की छुट्टियों की समाप्ति की ज़िम्मेवारी कौन लेगा नीतीश या तेजस्वी?मुस्लिम स्कूलों में शुक्रवार के बाद क्या हिंदू स्कूलों में मंगल को छुट्टी होगी?

शिक्षा विभाग के इस निर्णय से राज्य सरकार के खिलाफ भाजपा को एक मौका मिल गया है। मामले पर आधिकारिक रूप से राजद या जदयू का कोई बयान नहीं आया है। लेकिन राजद और जदयू नेता भी छुट्टियों के इस कैलेंडर को सही नहीं मान रहे, इसीलिए दोनों दलों के एक भी नेता ने विभाग के इस फैसले का बचाव नहीं किया है। सबको सरकार के संज्ञान लेने तथा इसमें सुधार करने का इंतजार है। यह भी कहा जा रहा है कि सरकार जितना देर करेगी उतना भाजपा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण करेगी।

तेलंगाना चुनाव से पहले ही तय हो गया भारी बहुमत से आ रही कांग्रेस