जदयू ने पासवानों के बुलाया, चिराग पर साधा निशाना

जदयू ने पासवानों के बुलाया, चिराग पर साधा निशाना। कहा खुद को दलित नेता कहनेवाले संविधान विरोधी की गोद में बैठे हैं। पासवान किसी के राजनीतिक गुलाम नहीं।

जदयू ने पूर्व मुख्यमंत्री स्व भोला पासवान शास्त्री की जयंती पर जुटान किया और चिराग पासवान का नाम लिये बिना उन पर खूब हमले किए। कहा कि खुद को दलित नेता कहनेवाले संविधान विरोधी भाजपा की गोद में बैठ गए हैं। यह भी कहा कि पासवान किसी के राजनीतिक गुलाम नहीं है। जदयू ने आज संदेश दे दिया कि वह लोजपा सांसद चिराग पासवान के जनाधार में न सिर्फ बड़ी बहस छेड़ने को तैयार है, बल्कि उसे जदयू के साथ जोड़ने के लिए राजनीतिक अभियान छेड़ने जा रहा है।

जनता दल(यू0) मुख्यालय के कर्पूरी सभागार में पूर्व मुख्यमंत्री भोला पासवान शास्त्री के जयंती समारोह का आयोजन किया गया। उद्घाटन ऊर्जा मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा, विधानसभा उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी एवं कार्यक्रम का संचालन पूर्व विधायक अजय पासवान ने किया।

उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि भोला पासवान शास्त्री की ईमानदारी और सादगीपूर्ण जीवन की चर्चा पूरे देश में होती है। वे पेड़ के नीचे बैठकर अधिकारियों के साथ मीटिंग किया करते थे। आज कुछ लोग पासवान समाज के नाम पर अपनी राजनीति रोटी सेक रहे हैं। उन्हें केवल वोट से मतलब है। बाबा साहेब का संविधान खतरे में है। दलित, शोषित और वंचित वर्गों से उनका अधिकार छिनने की कोशिश हो रही है। चिराग पासवान पर निशाना साधते हुए कहा कि दलितों के नाम पर राजनीति करने वाले लोग आज संविधान विरोधी भाजपा की गोद में जाकर बैठ गए हैं।

विधानसभा उपाध्यक्ष महेश्वर हजारी ने लोजपा (आर) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान पर निशाना साधते हुए कहा कि चुनाव जीतने के बाद पासवान समाज को बदहाल स्थिति में छोड़कर खुद दिल्ली चले जाते हैं। उन्हें केवल चुनाव के समय ही अपने समाज की याद आती है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एकमात्र ऐसे नेता है जो हमेशा दलित-शोषित समाज के लिए चिंतित रहते हैं। हमें यह बात कहने में कोई गुरेज नहीं है कि आज देश में दलितों के सबसे बड़े नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार है।

बिजेन्द्र प्रसाद यादव और विजय चौधरी ने भी कहा कि यह समाज किसी का राजनीतिक गुलाम नहीं है। कार्यक्रम को पासवान जाति से आने वाले कई जदयू नेताओं ने संबोधित किया। सबने संविधान खतरे में है बताने की कोशिश की।

राहुल कुलियों के बीच पहुंचे, कुली खुश, भाजपा क्यों तिलमिलाई

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420