‘हिंदुओं के त्योहार पर छुट्टी में कटौती’ करनेवाले केके पाठक की होगी छुट्टी?

‘हिंदुओं के त्योहार पर छुट्टी में कटौती’ करनेवाले केके पाठक की होगी छुट्टी? नीतीश कुमार के प्रिय आईएएस पाठक के खिलाफ भाजपा ने लगाए थे गंभीर आरोप।

बिहार भाजपा के प्रमुख नेता शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक के सख्त विरोधी रहे हैं। स्कूलों में छुट्टी में कटौती करने पर भाजपा नेताओं ने काफी कड़ा रुख दिखाया था। कहा था कि हिंदुओं के त्योहारों की छुट्टी कम की गई। नीतीश कुमार के भाजपा के साथ होने से हफ्ता भर पहले तक भाजपा नेताओं ने विरोध जताया था। अधिक ठंड के बावजूद स्कूल खोलने के निर्देश के बाद भाजपा नेताओं ने केके पाठक का विरोध किया था। अब भाजपा सरकार में आ गई है। बड़ा सवाल यह है कि क्या केके पाठक शिक्षा विभाग में बने रहेंगे और बने रहेंगे, तो क्या पहले की तरह बड़े फैसले ले सकते हैं या उन्हें विभाग से सरकार हटाएगी।

भाजपा सांसद सुशील मोदी केके पाठक के घोर विरोधी रहे हैं। मोदी ने स्कूलों में छुट्टी में बदलाव पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि क्या सामान्य स्कूलों में मुस्लिम बच्चे नहीं पढ़ते हैं? फिर पहली बार सामान्य और उर्दू विद्यालय के नाम पर अलग-अलग छुट्टी आदेश का क्या औचित्य है? मुस्लिम हेतु शुक्रवार को छुट्टी? क्या सरकारी कर्मचारी भी धर्म के आधार पर बांटे जाएंगे?

सुशील मोदी ने शिक्षक भर्ती में भी केके पाठक पर निशाना साधा था। कहा था कि केके पाठक के मुंह में कानून है। वे मनमानी करते हैं। भाजपा के अन्य नेता भी केके पाठक को विभाग से हटाने की पुरजोर मांग करते रहे हैं। यह भी देखना होगा कि शिक्षा मंत्री कौन बनता है और केके पाठक क्या पहले की तरह मंत्री को दरकिनार करके फैसला लेते रहेंगे?

राजनीतिक उथल-पुथल के बीच पटना DM सहित 22 IAS का तबादला

इधर प्रदेश में दो आईएएस तथा 73 डीएसपी का तबादला कर दिया गया है। पिछड़ा-अतिपिछड़ा कल्याण विभाग के विशेष सचिव वीरेंद्र प्रसाद यादव कोसहकारिता विभाग में विशेष सचिव बनाया गया है। वहीं कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक अनिल कुमार ठाकुर को पिछड़ा अतिपिढ़ा कल्याण विभाग का विशेष सचिव बनाया गया है। चार दिन पहले पटना के जिलाधिकारी समेत 22 आईएएस का तबादला किया गया था। याद रहे पटना के जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग के स्कूल खोलने के आदेश के विपरीत कड़ाके की ठंड की वजह से स्कूल बंद रखने का आदेश दिया था। असके बाद केके पाठक और पटना के तत्कालीन डीएम चंद्रशेखर सिंह आमने सामने हो गए थे।

विप की 11 सीटों पर चुनाव, किसे मिलेगी कुर्सी, किसे मिलेगा वनवास

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420