ललन सिंह पटना के एक अखबार पर करेंगे मानहानि का केस

ललन सिंह पटना के एक अखबार पर करेंगे मानहानि का केस। दैनिक जागरण ने छापी थी खबर कि ललन तेजस्वी को सीएम बनाने के लिए तोड़ रहे पार्टी।

जदयू के पूर्व अध्यक्ष तथा सांसद ललन सिंह ने शनिवार को कहा कि पटना के एक अखबार तथा कुछ चैनलों के खिलाफ वे कानूनी कार्रवाई करेंगे। एक अखबार ने मेरी छवि खराब करने तथा मेरे और नीतीश कुमार के 37 वर्षों के संबंध पर सवाल खड़ा करते हुए खबर प्रकाशित की। उन्होंने दिल्ली से जारी अपने बयान में कहा कि वे दिल्ली में थे और अखबार ने लिखा है कि मेरे नेतृत्व में पटना में विधायकों की एक बैठक हुई, जिसमें पार्टी को तोड़कर तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बनाने की योजना बनी। यह सरासर झूठ है और वे इसे बर्दाश्त नहीं करेंगे। मालूम हो कि इसी आशय की एक खबर पटना से प्रकाशित दैनिक जागरण में छपी है।

जदयू सांसद ललन सिंह ने अपने बयान में कहा कि एक प्रमुख समाचार पत्र एवं कुछ न्यूज़ चैनल में प्रमुखता से यह खबर छपी या बताई गई कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बनने के प्रयास में मेरी अध्यक्ष पद से विदाई हो गई। खबर यह भी छपी है कि 20 दिसंबर को एक मंत्री के कार्यालय में दर्जन भर विधायकों की बैठक हुई जिसमें मैं भी उपस्थित था। खबर में और भी विस्तार से जदयू के टूट की प्रक्रिया पर चर्चा की गई है। यह खबर पूर्णता भ्रामक, असत्य और मेरी छवि को धूमिल करने वाली है। मैं 20 दिसंबर को मुख्यमंत्री के साथ दिल्ली में था और 20 दिसंबर की शाम में सभी सांसदों के साथ मुख्यमंत्री के दिल्ली स्थित आवास पर एक बैठक में शामिल था। समाचार पत्र ने जानबूझकर मेरी छवि को धूमिल करने के लिए इस प्रकार की खबर छापी है और नीतीश कुमार के साथ मेरे 37 साल के संबंधों पर भी प्रश्न चिन्ह खड़ा किया है। तथ्य यह है कि मैं अपने संसदीय क्षेत्र में व्यस्तता के कारण मेरी इच्छा और मुख्यमंत्री जी की सहमति से अध्यक्ष पद छोड़ा और नीतीश जी ने स्वयं इस दायित्व को लिया। ऐसे भ्रामक समाचार को लिखने वाले और छापने वाले चारों खाने चित होंगे। जदयू पार्टी के सर्वमान्य नेता नीतीश कुमार के नेतृत्व में एकजुट है। मैंने फैसला किया है कि पटना लौटकर तत्काल संबंधित समाचार पत्र को कानूनी नोटिस दूंगा और मेरी छवि को धूमिल करने के लिए उस पर मानहानि का मुकदमा करूंगा।

तेजस्वी ने नीतीश कुमार के अध्यक्ष बनने पर दी बधाई