लालू से मिलने पहुंचे नीतीश, अटकलों का बाजार गर्म

लालू से मिलने पहुंचे नीतीश, अटकलों का बाजार गर्म। मुंबई से लौटने के दूसरे दिन हुई मुलाकात में दो बिंदुओं पर चर्चा। बिहार में बड़ा खेला करने की तैयारी।

मुंबई बैठक के दूसरे दिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद से मिलने पहुंचे। दोनों के मिलते ही अटकलों का बाजार गर्म हो गया। नौकरशाही डॉट कॉम ने जदयू और राजद के कई नेताओं से बात की। जानकारी मिल रही है कि लालू प्रसाद और नीतीश कुमार ने दो बिंदुओं पर चर्चा की। अब यह तय माना जा रहा है कि नवंबर के अंत या दिसंबर में लोकसभा चुनाव होगा। यह भी तय है कि भाजपा सांप्रदायिक ध्रवीकरण के लिए कोई न कोई मुद्दा लाएगी। इस परिस्थिति में महागठबंधन किस मुद्दे पर जोर दे कि बिहार की सभी लोकसभा सीटों पर महागठबंधन की जीत है।

राजद और जदयू में लोकसभा सीटों का बंटवारा कोई मुद्दा नहीं है। दोनों दल 15-15 सीटों पर चुनाव लड़ सकते हैं। बाकी दस सीटें सहयोगी दलों को दी जाएगी। राजद और जदयू 16-16 सीटों पर भी लड़ सकते हैं। सीटों के बंटवारे में कोई परेशानी नहीं है। सवाल है किस मुद्दे पर जोर दिया जाए।

राजद और जदयू सूत्रों ने बताया कि लोकसभा चुनाव में जाति गणना बड़ा मुद्दा होगा। कोशिश है कि जाति गणना के आधार पर लोकसभा चुनाव से पहले आरक्षण का कोटा बढ़ाया जाए।खासकर अतिपिछड़ों का आरक्षण कोटा बढ़ाया जाए। ऐसा होने पर महागठबंधन की ताकत बहुत बढ़ जाएगी। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है कि मुंबई से लौटने पर नीतीश कुमार ने पहला बयान जाति गणना पर ही दिया। उन्होंने सवाल किया कि केंद्र सरकार क्यों नहीं पूरे देश में जाति गणना कराती है।

जदयू ने एक सितंबर से 20 दिनों का भाजपा का पोल खोल अभियान शुरू किया है। इसमें जदयू कार्यकर्ता लोगों तक यह बात पहुंचा रहे हैं कि भाजपा किस प्रकार जाति गणना के विरोध में है। वह नहीं चाहती है कि अति पिछड़ों का आरक्षण कोटा बढ़ाया जाए। हालांकि जाति गणना इंडिया की बैठक में प्रमुख मुद्दा नहीं बन सका, लेकिन बिहार, यूपी और तमिलनाडु के नेता चाहते हैं कि देसभर में जाति गणना हो।

JDU ने शुरू किया BJP का पोल खोल अभियान, राज्यभर में मशाल जुलूस

By Editor