लोजपा नेता महेश्वर सिंह जदयू में नहीं गए, क्यों थामा राजद का हाथ

लोजपा नेता महेश्वर सिंह जदयू में नहीं गए, क्यों थामा राजद का हाथ

लोजपा के बड़े नेता, दो बार विधायक रह चुके महेश्वर सिंह आज राजद में शामिल हो गए। वे चाहते तो जदयू में भी जा सकते थे, पर राजद को ही उन्होंने क्यों चुना?

वर्ष 2005 में लोजपा विधायक दल के नेता रह चुके महेश्वर सिंह आज राजद में शामिल हो गए। उनके राजद में शामिल होने का महत्व कितना है, उसे इस तरह समझा जा सकता है कि उन्हें विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने खुद शामिल कराया। यहां यह सवाल महत्वपूर्ण है कि महेश्वर सिंह ने राजद को क्यों चुना, जबकि वे चाहते तो जदयू में भी शामिल हो सकते थे। यह सवाल इसलिए भी स्वाभाविक है क्योंकि खुद जदयू दूसरे दलों से नेताओं को शामिल कराने के लिए लगातार प्रयासरत रहा है।

पिछले साल नवंबर में विधानसभा चुनाव के बाद तीसरे नंबर की पार्टी बनने से जदयू का परेशान होना स्वाभाविक है। उसके बाद बसपा, लोजपा के विधायकों को जदयू में शामिल कराया गया। लोजपा सांसदों को तोड़ने में भी जदयू की सक्रिय भूमिका रही है। लेकिन जून महीने से नीतीश सरकार और जदयू की परेशानी बढ़ी है। पहली बार जदयू कोटे के मंत्री मदन सहनी ने अपनी ही सरकार पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए इस्तीफे की धमकी दी है। कई और विधायकों ने उनका समर्थन किया है। अबतक पार्टी ने उन्हें शो-कॉज भी नहीं किया है।

यह राज्य की राजनीति में नई परिस्थिति है। सरकार के मुखिया नीतीश कुमार की कार्यशैली पर उन्हीं के मंत्री और विधायक सवाल उठा रहे हैं। जहां तक पार्टी का सवाल है, तो जदयू में उपेंद्र कुशवाहा के शामिल होने के बाद नया समीकरण बन रहा है। सरकार बेरोजगारी, महंगाई पर विपक्ष हमलावर है। भाजपा-जदयू में भी सबकुछ सामान्य नहीं है। भाजपा कोटे की उपमुख्यमंत्री के परिजनों पर दबंगई के खुलेआम आरोप लग रहे हैं और मुख्यमंत्री कुछ कर सकने की स्थिति में नहीं हैं। कुल मिलाकर सरकार की प्रतिष्ठा तेजी से घटी है।

मुश्किल में मोदी, भारत में न सही, फ्रांस में RAFAEL पर जांच शुरू

उधर राजद राज्य का सबसे बड़ा दल है। उसकी सक्रियता भी लगातार बनी हुई है। सरकार असमंजस में है और विपक्ष के हैसले बुलंद हैं। ऐसे में स्वाभाविक है कि महेश्वर सिंह जैसे पुराने नेता ने जदयू के बदले राजद का हाथ थामना श्रेयस्कर समझा। इससे पहले गोपालगंज के एक जदूय नेता मंजीत सिंह ने राजद में शामिल होने की घोषणा कर दी थी। उन्हें बड़ी मुश्किल से पार्टी ने मनाया।

Aami Khan और Kiran Rao की शादी का हो गया अंत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*