मुशायरा-इन-दुबई में PLF संस्थापक खुर्शीद अहमद में हुए सम्मानित

मुशायरा-इन-दुबई में PLF संस्थापक खुर्शीद अहमद में हुए सम्मानित

मुशायरा-इन-दुबई में PLF संस्थापक खुर्शीद अहमद में हुए सम्मानित। दुबई के शेख राशिद ऑडिटोरियम में दुनियाभर के 14 शायरों व 600 लोगों के सामने दिया गया सम्मान।

पीएलएफ के संस्थापक और सचिव खुर्शीद अहमद को मुशायारा-इन-दुबई में किया सम्मानित। यह सम्मान उन्हें शेख सुहैल मोहम्मद ज़रूनी ने शेख राशिद ऑडिटोरियम में दिया। यह सम्मान उन्हें पटना में पीएलएफ और अंदाज-ए-बयां और की ओर से आयोजित सफल कवि सम्मेलन और मुशायरा के आयोजन के लिए दिया गया है। बता दें कि कवि सम्मेलन और मुशायरा का आयोजन 13 अगस्त को पटना के प्रसिद्ध होटल रॉयल बिहार में किया गया था, जिसमें 600 दर्शकों ने शिरकत की थी। पटना में पहली बार किसी मुशायरे की टिकट बुक माई शो पर बिकी थी। ऐसा पहली बार हुआ था कि दर्शकों को एक ही छत के नीचे देश के कई बड़े कवियों को सुनने का मौका मिला था। अंदाज-ए-बयां और ने पहली बार पीएलएफ के साथ मिलकर ऐसे कार्यक्रम का आयोजन किया था। इस कार्यक्रम में जयपुर, हैदराबाद, झारखंड और बिहार के जिलों से लोग आए थे। यह मुशायरा 8 घंटे तक चला था।
पटना में आयोजित कवि सम्मेलन और मुशायरा ने लोगों के दिलों में अपनी जगह बना ली। दुनियाभर के करीब 3.5 करोड़ लोगों ने अभी तक इस कार्यक्रम को ऑनलाइन माध्यम से देखा है। जबकि 10 लाख (1 मीलीयन) लोगों ने सिर्फ पीएलएफ के संस्थापक और सचिव खुर्शीद अहमद के भाषण को सुना है। यह पटना के लिए गर्व की बात है कि दुनियाभर के दर्शकों ने पटना को देखा।

खुर्शीद अहमद ने लीक से हटकर मुशायरे के आयोजन को दी नई ऊंचाई, लिख दिया नया इतिहास

खुर्शीद अहमद पटना लौट चुके हैं। उन्होंने कहा कि यह क्षण गर्व और खुशी का है। बिहार के दर्शक ने मुझे यह तोह्फा दिया है। यह गर्व सिर्फ बिहार के लिए नहीं है बल्कि पूरे् भारत के लिए है। दर्शकों ने इस कार्यक्रम को बेइंतहा प्यार दिया है और आगे भी देते रहेगे। इसके साथ ही जिम्मेदारियां भी बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि काम को हमेशा इबादत की तरह करना चाहिए। उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के बाद कार्यक्रम हाॅल में कई भारतीय उनके पास आए और उनके कार्यों की प्रशंसा की। उन्होंने पीएलएफ और एडवांटेज सर्विसेज की टीम को भी धन्यवाद दिया, जिन्होंने इस आयोजन को सफल बनाने की कोशिश की।

उन्होंने कहा कि मेहनत से ही हर इंसान आगे बढ़ता है। पटना की जमीन अदब और तहजीब की जमीन है। इस लिए इस धरती पर जल्द मशहूर कवि फ़रहत एहसास और आलोक श्रीवास्तव आएंगे। एडवाटेंज रू-ब-रू 7 के लिए यह दोनों कवि पटना आएंगे। पीएलएफ के चैयरमेन ओबैदूर रहमान आयोजन समिति ने इस पर जानकारी दी है। कल रात दिल्ली में मुलाकात हुई और प्रोग्राम के आयोजन की तैयारी की गई है। यह दोनों पटना की धरती पर आएंगे और अदब और तहजीब की गुफ्तुगो करेंगे।

ध्रुवीकरण-नफरत के खिलाफ RJD के राज्यभर के प्रवक्ताओं की मीटिंग