मुस्लिमों के बहिष्कार के उग्र भाषण पर नहीं, आयोजकों पर FIR

मुस्लिमों के बहिष्कार के उग्र भाषण पर नहीं, आयोजकों पर FIR

भाजपा सांसद ने दिन-दहाड़े मुस्लिमों के बॉयकॉट, उन्हें सबक सिखाने का भाषण दिया, लेकिन उन पर नहीं हुई FIR। सभा के लिए परमिशन न लेने की साधाराण FIR हुई।

दिल्ली में खुलेआम मुसलमानों को सबके सिखाने, हिंसा के लिए भड़काने वाले भाषण हुए। भाजपा सांसद प्रेवश साहिब सिंह वर्मा ने खुलेआम मुसलमानों के टोटल बॉयकॉट का आह्वान किया, लेकिन पुलिस ने उनके खिलाफ कोई एफआईआर दर्ज नहीं की। विश्व हिंदू परिषद तथा अन्य हिंदू संगठनों ने कार्यक्रम आयोजित किया था, जिसमें खुलेआम नफरतू भाषण दिए गए। पुलिस ने धारा 188 के तहत साधारण मामला दर्ज किया है, जिसका मतलब है कि आयोजकों ने सभा के लिए परमिशन नहीं लिया।

भाजपा सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने सभा में कहा कि कोई हिंदू किसी मुसलमान से सब्जी न खरीदे। कोई सामान न खरीदे। उन्हें सबक सिखाने के लिए पूर्ण बहिष्कार करें। इस सभा में तथाकथित हिंदू नेताओं ने खुलेआम हिंसा को बढ़ावा देने वाले भाषण दिए। समाज में नफरत और हिंसा भड़काने की धाराओं के तहत मामला दर्ज नहीं किया गया है।

लोग पूछ रहे हैं कि प्रधानमंत्री के सबका साथ सबका विकास वाले नारे का क्या हुआ। एक तरफ प्रधानमंत्री मुस्लिमों को जोड़ने की बात करते हैं, संघ प्रमुख मोहन भागवत मदरसे में जाते हैं, मस्जिद में जाते हैं, इमाम से वार्ता करते हैं, दूसरी तरफ खुलेआम उन्हीं के सांसद हिंसा भड़काने में लगे हैं।

कार्यक्रम का आयोजन विश्व हिंदू परिषद ने किया था। पीटीआई के अनुसार इसके संयोजक विनोद बंसल ने कहा कि उन्हें एफआईआर की कोई जानकारी पुलिस से नहीं मिली है। सोशल मीडिया पर हेट स्पीच के तमाम वीडियो वायरल हैं, लेकिन पुलिस ने हेट स्पीच को केस की धाराओं में शामिल नहीं किया है। कई लोगो ने आशंका जताई है कि हिंसा भड़कानेवाले भाषण पर कार्रवाई नहीं करना, उनका मनोबल बढ़ाना है, जिससे दिल्ली की शांति को खतरा हो सकता है। इस मामले पर पहले की तरह आप चुप है।

गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की याचिका सुप्रीम कोर्ट में खारिज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*