ब्रह्मोस मिसाइल की जानकारी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI को देनेवाले इंजीनियर निशांत अग्रवाल को उम्रकैद की सजा सुनाई  गई है। नागपुर की एक अदालत ने अग्रवाल को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। उसे ब्रह्मोस की तकनीक पाकिस्तान को लीक करने के आरोप में 2018 में गिरफ्तार किया गया था।

निशांत ब्रह्मोस एयरोस्पेस में सीनियर सिस्टम इंजीनियर था। इस पद पर रहते हुए उसने पाकिस्तान को जानकारी लीक की। उसे महाराष्ट्र एटीएस तथा मिलिट्री इंटेलिजेंस ने गिरफ्तार किया था। 2018 में उसे नागपुर में गिरफ्तार किया गया था। तब इस गिरफ्तारी से हंगामा मच गया था। वद नेहा शर्मा तथा पूजा रंजन के फेसबुक अकाउंट के जरिये पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से जुड़ा था। ये दोनों फेसबुक अकाउंट इस्लामाबाद से संचालित थे। दोनों अकाउंट के पीछे पाकिस्तानी एजेंसी थी।

निशांत को डीआरडीओ को यंग साइंटिस्ट अवार्ड भी मिला था। उसके लैपटॉप से कई गोपनीय फाइलें मिली थी। उसके लैपटॉप में एक सॉफ्टवैयर मिला था, जिसके जरिये गोपनीट जानकारी विदेश भेजी गई।

——————-

आ रहा है इंडिया गठबंधन, निष्पक्ष गिनती कराएं अधिकारी

——————-

निशांत को 14 वर्ष के सश्रम कारावास के साथ 3000 रुपए जुर्माना भी किया गया है। एडिशनल सेशन कोर्ट के ज एमवी देशपांडे ने निशांत को सीपीसी की धारा 235 के तहत दोषी पाया। उसे ऑफिशियल सिक्रेट एक्ट का दोषी पाया गया। उसने देश की सुरक्षा तकनीत को लीक किया। पिछले साल बॉम्बे हाईकोर्ट के नागपुर ब्रांच ने उसे जमानत दी थी।

प्रधानमंत्री से मिले नीतीश, क्या बेटे को बनाएंगे मुख्यमंत्री

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420