मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बीमार हो गए हैं। इसलिए उनके सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए गए। वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नामांकन सभा में बनारस जाने वाले थे। वहां भी नहीं गए। दो दिन पहले प्रधानमंत्री मोदी के पटना रोड शो में वे काफी परेशान दिखे थे। उनके हाथ में जदयू के चुनाव चिह्न के बजाय कमल चुनाव चिह्न थमा दिया गया था, जिसे वे बार-बार उलट-पुलट कर देख रहे थे। इस संबंध में उनका वीडियो भी वायरल हुआ था। अब उनकी तबीयत इतनी खराब है कि उनके सारे कार्यक्रम रद्द करने पड़े हैं।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहले ही पूरी तरह स्वस्थ नहीं थे। वे बार-बार भूल जा रहे थे। कभी चार सौ पार नारे को चार हजार पार कह दे रहे हैं, कभी प्रत्याशी का नाम भूल जा रहे हैं। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो में जिस तरह उनके हाथ में कमल दिया गया और रथ इस तरह बनाया गया था, जिसमें प्रधानमंत्री ऊंचे दिख रहे थे और नीतीश कुमार नीचे। उस रोड शो में नीतीश कुमार खासे परेशान थे। कहा जा रहा है कि पहले से बीमार नीतीश की तबीयत उस रोड शो के कारण ज्यादा बिगड़ गई।

याद रहे 14 मई को उनकी पत्नी की पुण्य तिथि है, जिसमें वे हमेशा श्रद्धांजलि देने जाते रहे हैं, लेकिन पहली बार आज बीमारी के कारण वे पत्नी को श्रद्धांजलि देने भी नहीं गए। इससे स्पष्ट है कि उनकी तबीयत ज्यादा खराब है। थोड़ी-बहुत तबीयत खराब रहती तो वे पत्नी को श्रद्धांजलि देने जरूर जाते।

इसी के साथ लोकसभा चुनाव के बाद जदयू के भविष्य के साथ ही नीतीश सरकार के भविष्य पर भी प्रश्न चिह्न लग गया है। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के बाद राज्य में नए मुख्यमंत्री की ताजपोशी हो सकती है। मुख्यमंत्री की तबीयत खराब होने से पटना के राजनीतिक गलियारे में तरह-तरह की चर्चा शुरू हो गई है।

भाजपा से दलितों की नाराजगी, मांझी और पारस मनाने पहुंचे बनारस

By Editor