राहुल की न्याय यात्रा को पुलिस ने रोका, समर्थकों ने तोड़ दी बैरिकेड

राहुल की न्याय यात्रा को पुलिस ने रोका, समर्थकों ने तोड़ दी बैरिकेड

राहुल की न्याय यात्रा को पुलिस ने रोका, समर्थकों ने तोड़ दी बैरिकेड। पुलिस से नोंकझोंक, प्रदेश अध्यक्ष को लगी चोट। राहुल को कॉलेज में जाने से रोका।

पहली बार राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा को पुलिस ने बैरिकेड लगा कर रोक दिया। यात्रा जब मेघालय से असम पहुंची, तो राजधानी गुवाहाटी में रास्ते में पुलिस ने बैरिकेड लगा कर यात्रा रोक दी। यहां हजारों की संख्या में कार्यकर्ता थी। पुलिस से नोंकझोंक में प्रदेश अध्यक्ष भूपेन बोरा सड़क पर गिर पड़े। उनके साथ धक्का-मुक्की की गई। इस दौरान उन्हें चोट भी लगी। बाद में कार्यकर्ताओं ने पुलिस बैरिकेड को उखाड़ दिया। पुलिस ने उस रास्ते से जाने से मना किया था कि ट्रैफिक जाम हो जाएगा। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि इसी रास्ते भाजपा अध्यक्ष ने रोड शो, तब रोड जाम नहीं हुआ। भाजपा नेताओं को इजाजत दी गई, पर राहुल गांधी को रोका गया।

राहुल गांधी ने प्रेस वार्ता को भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि हमारी ‘न्याय की लड़ाई’ के पांच स्तंभ हैं- युवा न्याय, भागीदारी न्याय, ⁠⁠नारी न्याय, किसान न्याय और श्रमिक न्याय। उन्होंने कहा कि भाजपा कार्यकर्ता सामने आ कर यात्रा में बाधा पैदा करना चाहते हैं, लेकिन दरअसल वे हमारी मदद कर रहे हैं। उनकी बाधा से न्याय यात्रा असम के गांव-गांव तक पहुंच गई है।

उन्होंने कहा कि वे डरने वाले नहीं है। कुछ भी करो.. बुरा-भला कहो, परेशान करो, लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगा। मैं सच्चाई के लिए लड़ता रहूंगा। चाहे पूरी दुनिया मेरे खिलाफ खड़ी हो जाए, मुझे फर्क नहीं पड़ता। एक बार मैंने मन बना लिया, तो मेरी विचारधारा के लिए लड़ने से मुझे कोई नहीं रोक सकता। इससे पहले मेघालय में एक कॉलेज में काक्यक्रम था। अनुमति भी थी। लेकिन अंतिम समय में अनमति रद्द कर दी गई। इसके बाद हजारों की संख्या में छात्र सड़क पर आ गए। राहुल गांधी ने सड़क पर ही छात्रों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि एक तरफ नरेंद्र मोदी-RSS है, दूसरी तरफ INDIA है। INDIA एक विचारधारा, एक सोच है। आज INDIA के पास हिंदुस्तान का तकरीबन 60 प्रतिशत वोट है।

राहुल गांधी ने कहा कि महिलाओं के साथ हो रहे अन्याय और युवाओं की बेरोजगारी के खिलाफ हमारे पास समाधान हैं। कांग्रेस पार्टी अगले महीने इन सभी मुद्दों पर विस्तार से अपनी बात आपके सामने रखेगी।

24 घंटे में बदली पटना की सियासी हवा, अब हर तरफ कर्पूरी चर्चा