PU : नई शिक्षा नीति के खिलाफ आइसा लड़ेगा छात्र संघ चुनाव

PU : नई शिक्षा नीति के खिलाफ आइसा लड़ेगा छात्र संघ चुनाव

पटना विवि छात्र संघ चुनाव की गहमागहमी तेज हो गई है। आइसा ने कहा कि वह केंद्र की मोदी सरकार की नई शिक्षा नीति के खिलाफ चुनाव लड़ेगा।

पटना विश्वविद्यालय के पटना विमेंस कॉलेज, मगध महिला कॉलेज, पटना कॉलेज, पटना साइंस कॉलेज में गुुरुवार को आइसा ने सदस्यता अभियान चलाया एवं छात्र संघ चुनाव को ले कर सघन कैंपेन चलाया। आइसा ने नई शिक्षा नीति 2020 लागू होने के कारण हुए फीस वृद्धि के खिलाफ छात्रों के बीच कैंपेन किया। कैंपस में GSCASH ( जेंडर सेंसीटाईजेसन सेल अगेंस्ट सेक्सुअल हैरसमेंट ) को स्थापित करने को लेकर संघर्षरत है। खेल कूद के माहौल को कैंपस में बेहतर बनाने की लडाई आइसा लड़ते रहा है।

आइसा विश्वविद्यालय अध्यक्ष नीरज यादव ने कहा कि आइसा छात्र संघ चुनाव नई शिक्षा नीति 2020, पुस्तकालयों की स्थिति बेहतर करने, साइबर लाइब्रेरी को चालू करने की मुद्दे पर चुनाव लड़ेगा। यह चुनाव देश की राजनीति के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है। कैंपस में फासीवादी और महिला विरोधी ताकतों को शिकस्त दिया जाएगा। विगत वर्षों से छात्रसंगठन आइसा पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय बनाने की लड़ाई को लड़ रहा है। छात्रसंघ चुनाव में इस मुद्दे पर आइसा का लड़ाई प्रमुख है और छात्र-छात्राएं इस मुद्दे पर आइसा के साथ खड़ा है।

आइसा विवि उपाध्यक्ष आदित्य रंजन ने कहा कि कैंपस में पटना विश्वविद्यालय में लंबे समय से पीएचडी की प्रवेश परीक्षा लंबित है। हमलोग इस मुद्दे पर लंबे समय से आंदोलनरत है जिसका नतीजा है कि दिसंबर में प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाना है। पीएचडी में 27 छात्रों को कोर्स वर्क में जबरदस्ती फेल कर दिया गया, आइसा इन सभी शोधार्थियों का पुनः प्रवेश परीक्षा करवाया जिसका नतीजा है कि आज पुनः सभी छात्र पीएचडी कर रहे है।

कैम्पेन में आइसा राज्य सचिव सबीर, राज्य अध्यक्ष विकाश यादव, राज्य उपाध्यक्ष प्रीति , राज्य सह सचिव कुमार दिव्यम, मनीषा, विशाल, राजा, आशीष, निर्भय,लकी समेत दर्जनों कार्यकर्ता विश्वविद्यालय के अलग- अलग कॉलेजो में कैम्पेन करते नजर आए।

कुढ़नी में भी औवेसी की पार्टी MIM प्रत्याशी देगा, महागठबंधन परेशान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*