नीतीश की पलटी के बीच एक और सियासी जंग, 27 को रास चुनाव

नीतीश की पलटी के बीच एक और सियासी जंग, 27 को रास चुनाव

नीतीश की पलटी के बीच एक और सियासी जंग, 27 को रास चुनाव। बिहार से छह सीटों के लिए होगा चुनाव। जानिए किनका-किनका पूरा हो रहा कार्यकाल।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पलटी के बीच एक नई सियासी जंग का एलान हो गया है। बिहार में राज्यसभा की छह सीटों के लिए चुनाव होगा। 27 फरवरी को वोट पड़ेंगे और उसी दिन नतीजा भी आ जाएगा। इनमें पांच सीटें पहले इंडिया गठबंधन के पास थीं, लेकिन राज्य में सत्ता समीकरण बदल जाने से चुनाव परिणाम भी बदल सकते हैं। इन पांच सीटों में पहले राजद के पास दो, जदयू के पास दो तथा एक कांग्रेस के पास एक सीट थी। भाजपा के पास भी एक ही सीट थी। अब नए समीकरण में दोनों गठबंधनों के पास तीन-तीन सीटें रह सकती हैं। राज्यसभा की एक सीट के लिए 40 विधायकों का समर्थन चाहिए। 8 फरवरी को चुनाव की अधिसूचना जारी होगी। नामांकन की अंतिम तारीख 15 फरवरी है। नामांकन पत्रों की जांच 16 फरवरी और नाम वापसी की तारीख 20 फरवरी रखी गई है। 27 फरवरी को चुनाव होगा और उसी दिन शाम पांच बजे के बाद मतों की गिनती होगी।

राजद के राज्यसभा सदस्य मनोज कुमार झा, अशफाक करीम, जदयू के वशिष्ठ नारायण सिंह और अनिल कुमार हेगड़े, कांग्रेस के अखिलेश प्रसाद सिंह और भाजपा के सुशील मोदी का कार्यकाल पूरा हो रहा है।

नए समीकरण में गठबंधन के तीन प्रत्याशी कौन होंगे यह देखना है। राजद के मनोज झा का फिर से आना तय माना जा रहा है। लेकिन अन्य दो चेहरे कौन होंगे, यह देखना है। उधर भाजपा गठबंधन में अब भाजपा के दो सदस्य हो सकते हैं और जदयू को एक पर संतोष करना पड़ सकता है। एनडीए में तीन कौन चेहरे होंगे, इस पर संशय बना हुआ है। खुद सुशील कुमार मोदी को पार्टी रिपीट करेगी या नहीं, यह स्पष्ट नहीं है। संभव है पार्टी लोकसभा चुनाव की दृष्टि से नए चेहरों को मौका दे।

गोदी मीडिया का झूठ, ED से डर सोरेन लापता, जानिए सच्चाई