RSS के गढ़ नागपुर में कांग्रेस की रैली, राहुल, खड़गे, प्रियंका तीनों रहेंगे

RSS के गढ़ नागपुर में कांग्रेस की रैली, राहुल, खड़गे, प्रियंका तीनों रहेंगे

RSS के गढ़ नागपुर में कांग्रेस की रैली, राहुल, खड़गे, प्रियंका तीनों रहेंगे। संसद की सुरक्षा पर सबसे अलग बोले राहुल। लोकसभा चुनाव पर शीर्ष नेताओं की बैठक।

कांग्रेस ने RSS के गढ़ नागपुर में महारैली करने का निर्णय लिया है। इसे राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे तथा महासचिव प्रियंका गांधी तीनों संबोधित करेंगे। महारैली 28 दिसंबर को होगी। स्पष्ट है कर्नाटक, तेलंगाना के बाद कांग्रेस महाराष्ट्र में अपने लिए नई संभावना देख रही है। यहां दल बदल कराने के बावजूद भाजपा अब तक स्थायी सरकार नहीं दे पाई है। जोड़-तोड़ कर बनाई गई सरकार पर हमेशा बिखराव के खतरे हैं। जोड़ तोड़ से नीचे जमीन पर भाजपा मजबूत नहीं हुई है। महाराष्ट्र में यूपी के बाद सर्वाधिक लोकसभा क्षेत्र हैं। यहां से 48 सांसद चुने जाते हैं। पिछली बार 2019 में भाजपा को 23 सीटों पर जीत मिली थी। तब उसका शिवसेना से गठबंधन था।

इधर राहुल गांधी ने शनिवार को पहली बार संसद में सुरक्ष चूक पर मीडिया से अपनी बात कही। उन्होंने कहा कि संसद की सुरक्षा में चूक की सबसे बड़ी वजह देश में बेराजगारी है। इस तरह राहुल ने उस सवाल पर फिर से सबका ध्यान खींचा, जिसकी चर्चा नहीं हो रही थी। पूरी बहस संसद की सुरक्षा बढ़ाने के इर्द-गिर्द हो रही थी, जबकि भीतर घुस कर धुआं करने वाले युवाओं का कहना है कि वे देश में बेरोजगारी पर चर्चा चाहते हैं। इस पर कोई बात नहीं हो रही है। इसीलिए उन्होंने संसद के भीतर प्रवेश करने का निर्णय लिया।

पांच राज्यों में चुनाव के बाद मीडिया ने इस तरह का माहौल बनाया जैसे अब 2024 लोकसभा चुनाव का फैसला अभी ही तय हो गया है। प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों की जीत को लोकसभा जीत की गारंटी कही। अब विपक्ष खासकर कांग्रेस फिर से खड़ी होती दिख रही है। शनिवार को कांग्रेस मुख्यालय में पार्टी अध्यक्ष खड़गे के नेतृत्व में बैठक हुई, जिसमें लोकसभा चुनाव की तैयारियों पर चर्चा हुई। 19 दिसंबर को इंडिया गठबंधन की बैठक है। विपक्ष की कोशिश है कि वह मीडिया द्वारा बनाए नैरेटिव को बदले और फिर से बताए कि विपक्ष संघर्ष करने को तैयार है।

क्या लालू को किडनी देने वाली बेटी पाटलिपुत्र से चुनाव लड़ेंगी?