विक्टिम कार्ड खेल कर धनखड़ खुद फंसे, PM को भी किया अपमानित

विक्टिम कार्ड खेल कर धनखड़ खुद फंसे, PM को भी किया अपमानित

विक्टिम कार्ड खेल कर धनखड़ खुद फंसे, PM को भी किया अपमानित। मिमिक्री को बनाया मुद्दा तो प्रधानमंत्री का वीडियो वायरल। सवालों की हुई बौछार।

इर्शादुल हक, संपादक, नौकरशाही डॉट कॉम

राज्यसभा अध्यक्ष जगदीप धनखड़ ने सदन के बाहर अपनी मिमिक्री किए जाने को खुद का, पद का और जाटों का अपमान बता कर फंस गए। वे खुद तो फंसे ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी फजीहत करा दी। सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री का वह वीडियो वायरल हो गया, जिसमें वे सदन के भीतर मिमिक्री कर रहे हैं। इसी के साथ लोगों ने सवालों की बौछार कर दी। सवाल उठे कि जब जाट बेटियां यौन शोषण के खिलाफ 45 दिनों तक सड़क पर थीं, सड़क पर उन्हें घसीटा गया, तब धनखड़ क्या जाट नहीं थे, और क्या वह जाटों का अपमान नहीं था।

धनखड़ ने अपनी मिमिक्री किए जाने के बाद सदन में कहा था कि वे अपनी मिमिक्री सह सकते हैं, लेकिन पद की गरिमा की रक्षा करना उनका कर्तव्य है। उनकी मिमिक्री नहीं, बल्कि उनके जाट होने के कारण मिमिक्री की गई है। इसके बाद कांग्रेस ने हामिद अंसारी का मामला उठा दिया। जिसमें प्रधानमंत्री ने उप राष्ट्रपति का अपमान किया था। उन्हें क्या-क्या नहीं कहा गया, जबकि वे बड़े स्कालर माने जाते हैं।

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वह वीडियो साझा किया, जिसमें प्रधानमंत्री खुद उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का मजाक उड़ा रहे हैं। 2017 में प्रधानमंत्री ने हामिद अंसारी का 10 वर्षों का कार्यकाल समाप्त होने पर विदाई भाषण में मजाक उड़ाया था। प्रधानमंत्री ने हामिद अंसारी के सफल कार्यकाल को उनकी मुस्लिम पहचान तक सीमित कर दिया। अंसारी की पूरी सफलता की वजह उनके खास धर्म का होने तक सीमित कर दिया था।

जयराम रमेश ने प्रधानमंत्री मोदी के कई वीडियो शेयर किए, जिसमें मोदी विपक्षी सासंदों का मजाक उड़ा रहे हैं। प्रधानमंत्री के उस चर्चित वीडियो को भी शेयर किया, जिसमें वे 50 करोड़ की गर्ल फ्रेंड कह कर विपक्षी नेता का खुलेआम अपमान कर रहे हैं। महिला का भी अपमान कर रहे हैं। रमेश ने लिखा-प्रधानमंत्री ने कहा है कि वह पिछले बीस वर्षों से अपमान सहते आ रहे हैं। लेकिन पिछले 20 वर्षों में उन्होंने जिस तरह से अपने राजनीतिक विरोधियों को अपमानित किया है और उनके ख़िलाफ़ अपशब्द और अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल किया है उसपर वह क्या बोलेंगे? यह असली मुद्दे से ध्यान भटकाने का उनका घिसा पिटा तरीक़ा है।

धनखड़ ने विक्टिम कार्ड खेला, तो गोदी मीडिया ने तुरत इसे प्राइम टाइम न्यूज बना दिया। जाटों को भी उत्तेजित करने की कोशिश की गई, लेकिन मीडिया और धनखड़ इसमें सफल नहीं रहे। कांग्रेस अध्यक्ष खड़गे ने कहा कि उन्हें बोलने नहीं दिया गया, तो क्या उन्हें कहना चाहिए कि धनखड़ ने देश के दलितों का अपमान किया है। किसी ने कहा कि डिंपल यादव को सस्पेंड करके यादवों को अपमानित किया गया कहा जा सकता है क्या। कुल मिला कर धनखड़ ने विक्टिम कार्ड खेल कर प्रधानमंत्री मोदी के पुराने वीडियो को सामने ला दिया, जिससे उनका दांव उल्टा पड़ा।

अब प्रधानमंत्री अपनी पार्टी के नेता को भी बना सकेंगे चुनाव आयुक्त