जज की दारू वाली जानलेवा कार: अब दारू को पेट्रोल बताने का पुलिसिया खेल

जज साहब की दारू रखी कार से कुचल के दो युवकों की मौत के बाद अब थानाध्यक्ष शराब को पेट्रोल बताने के खेल में लगे हैं. इससे पहले कार को चोरी होने का रंग दिया जा रहा था.

कार में रखी शराब की बोतलें

कार में रखी शराब की बोतलें

विनायक विजेता

बीते सोमवार को धनरुआ के पास इंजीनियरिंग के दो छात्रों को कुचलने वाली गया के एसीजेएम-9 संजीव कुमार राय और उनकी गाड़ी में पाई गई शराब की एक खाली बोतल और मिनरल वाटर की बोतल में में पानी में मिलाकर रखी गई शराब और चखना मामले में पुलिस कोई कार्रवाई करने के बजाए मामले को रफा दफा करने को प्रयासरत है।

थानाध्यक्ष का बदलता सुर

धनरुआ के थाना प्रभारी लालमोहन प्रसाद पहले तो इस गाड़ी (बीआर 01 पीबी-5569) से शराब की बोतल बरामद होने से इनकार करते रहे पर मंगलवार व बुधवार को जब सोशल मीडिया पर शराब रखी उस गाड़ी की तस्वीर और समाचार प्रमुखता से लगातार वॉयरल होने लगी तो बुधवार की शाम थानाध्यक्ष का सुर तो बदल गया पर सुर हास्यास्पद है। बकौल ( थाना प्रभारी ने यह बयान देकर कि ‘बोतल में शराब है या पेट्रोल इसकी जांच करायी जा रही है’ .

तो गोया शराब की जगह पेट्रोल पी रहे थे?

गौरतलब है ये वही थानाध्यक्ष हैं जिन्होंने इससे पहले, कार से शराब की बतलें बरामद होने से ही इनकार किया था. यहां तक की इस मामले की एफआईआर में इसका उल्लेख तक नहीं किया था. लेकिन अब बोतल में ‘दारू था या पेट्रोल इसकी जांच होगी’ वाली बात  कहके थानाध्यक्ष  अपने उन आला पुलिस अधिकारियों की भी जगहंसाई करवा रहे हैं जिन्होंने पटना सहित पूरे राज्य में शराब और शराबियों के खिलाफ जबर्दस्त मुहिम छेड़ रखी है।

थानाध्यक्ष के बयान से लगता है कि इस कार में बैठे लोग शराब नहीं बल्कि पिट्रेोल पी रहे थे। एक ओर पुलिस जहां मुंह सुंघ-सुंघकर शराबियों पर प्राथमिकी दर्ज कर जेल भेज रही है वहीं पर्याप्त साक्ष्य होने के बावजूद पुलिस कार मालिक उक्त न्यायिक दण्डाधिकारी के खिलाफ कोई भी कार्यवाई करने से कतरा रही है।

आईजी ने कहा निश्चिंत रहें होगी कार्रवाई

जब पटना के एक्जीविशन रोड स्थित ‘होटल पनाश’ के मालिक दिलीप सिंह के खिलाफ इस आराप में उत्पाद अधिनियम के तहत मामला दर्ज हो सकता है कि उनके होटल के कमरे में शराब पीते हुए लोग पाए गए तो कार के मालिक संजीव कुमार राय के खिलाफ उत्पाद अधिनियम के तहत मामला दर्ज क्यों नहीं हो सकता जबकि इस  कार (बीआर 01 पीबी-5569) के ऑनर के रुप में एसीजेएम संजीव कुमार राय का नाम दर्ज है।

इस बीच देर रात नालंदा से पटना लौटे पटना के जोनल आईजी नैयर हसनैन खान ने गुरुवार को इस संदर्भ में पूछे जाने पर कहा कि जनता निश्चिंत रहें उनकी नजर इस पूरे मामले पर है और वह आज इस मामले को देखेंगे कि पुलिस ने अबतक क्या कार्यवाई की है।

यह भी पढ़ें-

सीजेएम कार एक्सिडेंट मामला: कार की चोरी की रिपोर्ट लिखवाने की हो रही है कवायद 

जज की जिस कार ने इंजीनियरिंग के दो छात्रों को कुचला उसमें मिली शराब की बोतलें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*