मायावती इंडिया गठबंधन में आने को तैयार, रख दी एक शर्त

मायावती इंडिया गठबंधन में आने को तैयार, रख दी एक शर्त

मायावती इंडिया गठबंधन में आने को तैयार, रख दी एक शर्त। अगर वे साथ आईं, तो 2024 लोकसभा चुनाव की बदल जाएगी पूरी फिजां। कांग्रेस ने भी दिया एक बड़ा ऑफऱ।

इंडिया गठबंधन में शामिल होने को लेकर पहली बार बसपा ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। पार्टी ने कहा है कि मायावती इंडिया गठबंधन में शामिल हो सकती हैं, लेकिन एक शर्त है। उधर कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने एक वीडियो जारी किया, जिसमें वे हाथ जोड़ कर मायावती से कह रहे हैं कि देश में लोकतंत्र को बचा लीजिए। इंडिया गठबंधन में शामिल हो जाइए। इस बीच खबर है कि कांग्रेस के शीर्ष नेतृ्तव ने मायावती को एक बड़ा ऑफर भी दिया है।

बसपा के बिजनौर से सांसद मलूक नागर ने कहा कि मायावती को पीएम उम्मीदवार के रूप में पेश करके इंड‍िया गठबंधन आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी को लगातार तीसरी बार जीतने से रोक सकता है। कहा कि 2022 उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा को 41.3 प्रतिशत वोट मिले। इंडिया ब्लॉक बनाने वाली पार्टियों को लगभग 40 प्रतिशत वोट मिले और बसपा को लगभग 13 प्रतिशत वोट मिले। अगर बसपा गठबंधन में शामिल होती है, तो वोट प्रतिशत 50 फीसदी से ऊपर चला जाएगा जो बीजेपी से सत्ता छीनने के लिए काफी है। बसपा सांसद ने यह भी कहा कि ‘मायावती को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने से भगवा ब्रिगेड द्वारा लुभाए गए दलित मतदाता भी वापस आ जाएंगे।

बसपा सांसद के बायन और शर्त के बाद राजनीति गरमा गई। इस बीच खबर है कि कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व ने बसपा को संदेश भिजवाया है कि वे अगर इंडिया गठबंधन में शामिल होती हैं, तो यूपी में उन्हें जितनी सीटें छोड़नी पड़ेंगी, उसकी भरपाई वह राजस्थान और मध्य प्रदेश से कर देगी।

इस तरह मायावती के इंडिया गठबंधन में शामिल होने की संभावना बनी हुई है। प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार की शर्त पर शायद सहमति न हो, लेकिन इससे संभावना खत्म नहीं होती। अगर वे इंडिया गठबंधन में शामिल होती हैं, तो अकेले यूपी ही प्रधानमंत्री मोदी की तीसरी बार सत्ता में वापसी का रास्ता रोक सकता है। पूरी समीकरण ही बदल जाएगा।

कर्पूरी जयंती पर दिखेगी पिछड़ों की ताकत, RJD का बड़ा कार्यक्रम