मोदी मंदिर में, राहुल को जाने से रोका, सड़क पर घंटों बैठे

मोदी मंदिर में, राहुल को जाने से रोका, सड़क पर घंटों बैठे

मोदी मंदिर में, राहुल को जाने से रोका, सड़क पर घंटों बैठे। राहुल संत शंकरदेव के मंदिर में जाना चाहते थे। असम में भारत जोड़ो न्याय यात्रा पर हमले भी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या रामंदिर में थे, उधर राहुल गांधी को असम में मंदिर में जाने से रोक दिया गया। हालांकि पहले असम की भाजपा सरकार ने मंदिर में जाने की अनुमति दी थी, लेकिन आज सुबह जब राहुल गांधी पहुंचे, तो पुलिस ने उन्हें रोक दिया। कहा गया कि वहां पहले से सांस्कृतिक कार्यक्रम है। आपके जाने से व्यवधान हो सकता है। मंदिर में जाने की इजाजत नहीं दिए जाने पर राहुल गांधी वहीं सड़क पर धरने पर बैठ गए। वहां सैकड़ों की संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता भी धरने पर बैठे। कार्यकर्ता रघुपति राघव राजा राम…ईश्वर अल्लाह तेरे नाम गाते रहे।

बाद में स्थानीय गौरव गोगोई और एक विधायक को मंदिर में जाने की इजाजत दी गई। गोगोई ने बताया कि वहां दस बजे तक कोई सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं हो रहा था था। मंदिर में शांति थी। उन्होंने पुजारियों को बताया कि राहुल गांधी मंदिर में आना चाहचे थे, पर सरकार ने इजाजत नहीं दी, इसलिए वे उनकी तरफ से भी श्रद्धा जताने आए हैं। पुजारियों ने राहुल गांधी को अपना आशीर्वाद दिया। मालूम हो कि वहां श्री शंकरदेव का मंदिर है। वे समाज सुधारक और संत थे। उनका वहां वहीं स्थान है, जो हिंदी पट्टी में कबीर और रैदास का है।

इससे पहले कल राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा में कई स्थलों पर व्यवधान डालने का प्रयास किया गया। राहुल गांधी की बस के सामने भाजपा कार्यकर्ता जयश्रीराम का नारा लगाते हुए आ गए। उन्होंने कांग्रेस नेताओं के साथ मारपीट की। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष की नाक से खून बहता देखा गया। कांग्रेस महासचिव और सांसद जयराम रमेश की कार को भी रोका गया। उनके साथ भी बदतमीजी की गई। सोमवार को उन्होंने प्रेस वार्ता में कहा कि देश के ‘अहंकराचार्य’ नहीं चाहते कि देश की निगाहें किसी और विषय पर हों। हम 2 घंटे तक बैरिकेड के पास बैठे रहे और जब गौरव गोगोई जी और शिवामणि बरुआ जी बोरदोवा थान से वापस आए तो हम वहां से निकले। हमें खेद है कि इन कारणों से हम सुबह यात्रा नहीं कर पाए।

जदयू विधानपार्षद के गांव पहुंचे तेजस्वी, पालतू मीडिया के होश उड़े