आधा वीडियो प्रचारित कर सीता माता का अपमान बतानेवाले बेनकाब

आधा वीडियो प्रचारित कर सीता माता का अपमान बतानेवाले बेनकाब

हिंदुओं में नफरत फैलाने की एक साजिश बेनकाब हो गई। सोशल मीडिया पर आधा वीडियो प्रचारित कर सीता माता का अपमान बताया। शुक्रिया सजग-जन, प्रबुद्ध-जन।

यूपीएससी की तैयारी कराने वाले एक शिक्षक का आधा वीडियो प्रचारित करके सीता माता का अपमान का शोर मचाया गया। सोशल मीडिया में उस शिक्षक और उसके कोचिंग संस्थान के बॉयकॉट का हैशटैग ट्रेंड कराया गया। लेकिन, उन फैक्ट चैकर्स, प्रबुद्धजनों को शुक्रिया कहिए, जिन्होंने बहुत कम समय में सच्चाई सबके सामने ला दी।

UPSC कोचिंग सेंटर दृष्टि IAS की पहचान है। इसके शिक्षक डॉ. विकास दिव्यकीर्ति का एक वीडियो वायरल करा कर कहा गया कि ये हिंदुओं का अपमान कर रहे हैं। इस आधे वीडियो में दिख रहा है कि विकास कह रहे हैं कि रावण से युद्ध कर जब राम लौटे, तो सीता से उन्होंने कहा कि तुम्हारे लिए (सीता के लिए) युद्ध नहीं किया। युद्ध तो मैंने अपने कुल की मर्यादा की रक्षा के लिए किया। तुम मेरे लिए उसी प्रकार हो, जिस प्रकार घी को कोई कुत्ता चाट लेता है। स्वाभाविक है, इस वीडियो को देखकर कुछ भोले, कुछ कम बुद्धि वाले भक्तों ने सच मान लिया और सोशल मीडिया में हिंदुओं के अपमान का शोर मचाकर नफरत फैलाने में साथ हो गए। सोशल मीडिया में #BanDrishtiIAS ट्रेंड करने लगा।

लेकिन सच्चाई सामने आने में देर नहीं लगी। पूरा वीडियो सामने आ गया। इसमें शिक्षक विकास कह रहे हैं कि लेखक अपनी बात, अपना विचार पात्र के मुंह से कहलवाता है। इससे पात्र की गरिमा बढ़ती है, कभी घटती है। उन्होंने पुस्तक का उद्धरण देते हुए वह प्रसंग सुनाया। दरअसल, विकास तो राम और सीता के चरित्र की रक्षा ही कर रहे हैं और लेखकों से शिकायत कर रहे हैं। लेकिन समाज में उग्र हिंदुत्व के पैरोकारों ने इसे नफरत फैलाने का जरिया बना लिया।

सोशल मीडिया पर कई पत्रकारों, प्रबुद्ध जनों ने पूरा वीडियो शेयर किया है। आप भी देखिए-

ज्योतिष का इतना मजाक कभी नहीं उड़ा, राजद ने तो रगड़ दिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*