Actor अक्षय कुमार इतिहास पर बोल कर फंसे, लोगों ने लगा दी क्लास

Actor अक्षय कुमार इतिहास पर बोल कर फंसे, लोगों ने लगा दी क्लास

Bollywood Actor अक्षय कुमार इतिहास पर बोल कर बुरी तरह फंसे। एम.के. एस @SavaiyaM ने इतिहास की पुस्तक के पन्ने भेजकर दिखाया आईना।

कुमार अनिल

बॉलीवुड अभिनेता अक्षय कुमार ने इतिहास पर अपना ज्ञान परोसा तो सोशल मीडिया में लोगों ने उनकी जम कर क्लास लगा दी है। अक्षय कुमार ने न्यूज एजेंसी एएनआई को इंटरव्यू देते हुए कहा कि इतिहास की किताबों में असंतुलन है। हमें मुगलों के बारे में जानना चाहिए, लेकिन हिंदू राजाओं के बारे में जानना चाहिए। उनमें भी कई महान हुए हैं। उन्होंने शिक्षा मंत्री से राजाओं के बारे में जानकारी देनेवाली बातें पढ़ाने की भी अपील की। इंटरव्यू के मंच पर मोटे अक्षरों में पृथ्वीराज चौहान लिखा है।

उसने गांधी को क्यों मारा, कश्मीर और कश्मीरी पंडित, सावरकर जैसी कई पुस्तकों के लेखक अशोक कुमार पांडेय ने कहा-स्कूल-कॉलेज के टाईम क्लास बंक न की होती तो सब पढ़ा होता। तब तो पढ़ा नहीं अब कह रहे हैं पढ़ाया नहीं गया। ट्विटर पर सक्रिय एम. के. एस. @SavaiyaM ने बाजाप्ता स्कूलों में पढ़ाई जानेवाली किताब के दो पन्ने शेयर किए, जिसमें पृथ्वीराज चौहान के युद्ध और उनकी वीरता की चर्चा है। उनके टाइम लाइन पर जा कर वे दो पन्ने आप भी पढ़ सकते हैं। उन्होंने पन्ने शेयर करते हुए लिखा-@akshaykumar आप सातवीं में फैल हो गए थे, इसलिए आपकी मूर्खता या अल्पज्ञता पर हंसी भी नहीं आ रही, पर आपके सामने बैठी हुई @ANI की एंकर की अल्पज्ञता पत्रकारिता के गिरते स्तर को ही प्रदर्शित कर रही है। स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम में सब मोजूद था पर कहावत है कि “गधे को तालाब के किनारे तो लाया जा सकता है पर जबर्दस्ती पानी नहीं पिलाया जा सकता।” लीजिए आपकी सुविधा के लिए उस समय की NCERT की पुस्तक के पृष्ठ शेयर कर रहा हूं, जब आप स्कूल में रहे होंगे। इसे पूरी आंखें खोलकर ध्यान से पढ़िए। ये है अक्षय कुमार का इंटरव्यू-

आलोचना का स्त्री पक्ष, एक बटा दो जैसी कई पुस्तकों की लेखिका सुजाता ने कहा-जो कुछ नहीं पढ़ता वह कहता है लिखा नहीं गया कहीं. ऐसे मूर्खों को मंचों पर बुलाकर बुलवाते ही क्यों हैं ANI?

कॉलेज परिसर में नमाज पढ़ी, प्रोफेसर को एक महीने की छुट्टी पर भेजा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*