कॉलेज परिसर में नमाज पढ़ी, प्रोफेसर को एक महीने की छुट्टी पर भेजा

कॉलेज परिसर में नमाज पढ़ी, प्रोफेसर को एक महीने की छुट्टी पर भेजा

यूपी से खबर आ रही है कि एक कॉलेज के प्रोफेसर ने कॉलेज परिसर में नमाज पढ़ी, तो कुछ संगठनों ने विरोध किया। प्रबंधन ने प्रोफेसर को एक महीने की छुट्टी पर भेजा।

फोटो नेसनल हेरल्ड से साभार

अब तक किसी दफ्तर में काम करनेवाले कर्मी हों या कॉलेज के प्राध्यापक, नमाज का वक्त होने पर कार्य स्थल या कैंपस में ही किसी कोने में नमाज पढ़ ली। इस पर कोई एतराज नहीं करता था। लेकिन अब यूपी से खबर आ रही है कि एक कॉलेज के प्राध्यापक ने कॉलेज परिसर में नमाज पढ़ी, तो कुछ लोगों ने एतराज दर्ज कराया। प्रबंधन ने कार्रवाई करते हुए प्राध्यापक को जबरन एक महीने की छुट्टी पर भेज दिया।

न्यूज एजेंसी पीटीआई और नेशनल हेरल्ड की खबर के अनुसार अलीगढ़ के एक कॉलेज परिसर में नमाज पढ़ने पर राइट विंग (दक्षिणपंथी संगठन) ने विरोध किया, जिसके बाद प्राध्यापक को एक महीने की छुट्टी पर भेज दिया गया। यह वाकया श्री वार्ष्णेय कालेज का है, जहां प्रो. एस. आर. खालिद ने मंगलवार को नमाज का वक्त होने पर कॉलेज परिसर के एक कोने में नमाज पढ़ी। कॉलेज के एक प्रवक्ता ने मीडिया को बताया कि परिसर में नमाज पढ़ने का भारतीय जनता युवा मोर्चा से जुड़े कई संगठनों ने विरोध किया है। उनका कहना है कि सार्वजनिक स्थल पर नमाज पढ़ करके अनुशासनहीनता की गई है, जिससे शांति भंग हो सकती है। विरोध के बाद मामले में एक जांच कमेटी बना दी गई है।

मामला पुलिस में भी पहुंच गया है। कुवारसी पुलिस थाने में इस संदर्भ में शिकायत दर्ज की गई है। नेशनल हेरल्ड के अनुसार पुलिस का कहना है कि कॉलेज प्रबंधन से रिपोर्ट मिलने के बाद कार्रवाई की जाएगी। सोशल मीडिया में कई लोगों ने कहा कि जबरन एक महीने की छुट्टी पर भेज कर प्राध्यापक को प्रताड़ित किया जा रहा है।

खुली बगावत के मूड में RCP, अध्यक्ष पद की करेंगे दावेदारी