एडवांटेज केयर ने शुरू की मुफ्त एंबुलेंस सेवा,जारी किया फोन नंबर

एडवांटेज केयर ने शुरू की मुफ्त एंबुलेंस सेवा,जारी किया फोन नंबर

एडवांटेज केयर की मुफ्त एंबुलेंस सेवा सोमवार से शहर में शुरू हो गई। पहले ही दिन 10 लोगों ने इस सेवा का लाभ उठाया। एडवांटेज केयर ने एक फोन नंबर भी जारी किया।

एडवांटेज केयर ने पटना के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती होने के लिए निजी एंबुलेंस का इंतजार कर रहे लोगों अथवा निजी एंबुलेंस की सेवा महंगी होने और समय से नहीं मिलने से परेशान लोगों की मदद के लिए फ्री सेवा शुरू की है। आज पहले ही दिन 10 मरीजों को बिना किसी किराए के अस्पताल पहुंचाया गया।

गौरतलब है कि एडवांटेज केयर की दो एंबुलेंस पटना में सेवा दे रही है। यह एंबुलेंस शहर के एक बड़े स्कूल का है। स्कूल कैंपस में एंबुलेंस बेकाम लगा हुआ था। स्कूल बंद होने से अभी इसकी स्कूल के लिए कोई उपयोगिता नहीं थी। ऐेसे में एडवांटेज सपोर्ट के सचिव खुर्शीद अहमद के अपील पर स्कूल ने अपनी दोनों एंबुलेंस आपदा में लोगों की सेवा के लिए दे दी। एंबुलेंस 24 घंटा सेवा दे रहा है। रामाशंकर के मोबाइल नंबर 7488034824 पर फोन कर के मुफ्त एंबुलेंस की सेवा ली जा सकती है।

इस सेवा के संचालन में एडवांटेज केयर के शंकर बोस मदद कर रहे हैं। इन्हीं दोनों व्यक्तियों के अंदर में मुफ्त एंबुलेंस सेवा की टीम काम कर रही है। यह एंबुलेंस आक्सीजन और व्हील चेयर युक्त है। व्हील चेयर किसी अन्य व्यक्ति ने दान दी है।

एडवांटेज केयर के प्रयास से कई हुए प्रभावित
स्कूलों में पड़े एंबुलेंस का इस्तेमाल महामारी में जरुरतमंदों को मदद करने के आइडिया की चहुंओर प्रशंसा हो रही है। कई लोगों ने खुर्शीद अहमद को फोन कर के बधाई दी और खुद भी ऐसा करने की योजना साझा की। आईसीएसई के क्षेत्रीय कमिटी के सदस्य व इंटरनेशनल स्कूल के प्राचार्य फरहत हसन ने शहर के तमाम आईसीएसई स्कूलों को अपने कैंपस में लगे एंबुलेंस को किसी एनजीओ को देने की अपील की है ताकि इस महामारी में लोगों की मदद हो सके।

IPS ने सराहा, हिंदू भाइयों के शवों को कंधा दे रहे मुस्लिम

खुर्शीद अहमद ने बताया कि बेंगलुरु में रहनेवाले उनके मित्र व एलएक्सएल आइडिया से जुड़े सैय्यद सुल्तान अहमद ने भी इस प्रयास की सराहना की। उन्होंने एलएक्सएल आइडिया से जुड़े करीब एक हजार स्कूलों को पत्र लिखा है और अपील की है कि स्कूल कैंपस में पड़े एंबुलेंस को किसी एनजीओ को देकर चलवाएं ताकि लोगों की सहायता मिल सके। इसी तरह पटना के एक अन्य बिजनेसमैन अंशुमन ने भी इस तरह की सेवा शुरू करने की बात कही है।

असम में हार, बंगाल में शून्य पर कांग्रेस में मंथन, बनी कमेटी

खुर्शीद अहमद ने सामूहिक सेवा के तहत शहर के अन्य स्कूलों से भी आगे आने की अपील की है और उनसे उनका एंबुलेंस तत्काल किसी एनजीओ को देने की अपील की है। श्री अहमद ने उम्मीद किया की अगले 10 दिन में स्कूलों के एक हजार एंबुलेंस इस महामारी में सेवा देने के लिए आ जाएंगे। इस नेक काम में श्री अहमद की पत्नी निखत फातिमा भी काफी बढ़चढ़कर हिस्सा ले रही हैं व सहयोग कर रही हैं।

अगले चरण में परिजनों को खाना भी
खुर्शीद अहमद ने बताया कि मुफ्त एंबुलेंस सेवा के अगले चरण में मरीज के परिजनों को खाना भी देने की योजना है। उनके अनुसार मरीज तो अस्पताल में भर्ती हो जाते हैं। उन्हें अस्पताल से खाना मिल जाता है। लेकिन उनके साथ उनके परिजन को भूखा रहना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखते हुए मरीज के परिजनों के लिए मुफ्त खाना देने की योजना है। मुफ्त एंबुलेंस और खाना की सेवा देने पर श्री अहमद ने बताया कि उन्हें इसके लिए ईदी फाउंडेशन से प्रेरणा मिली। यह संस्थान दुनिया में अपने नेक कामों के लिए मशहूर है। यह संस्था गरीबों को मुफ्त स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराती है।

एडवांटेज सपोर्ट में शहर के कई नामचीन लोग ट्रस्टी
एडवांटेज सपोर्ट से शहर के कई नामचीन लोग जुड़े हुए हैं, जिसमें प्रसिद्ध सर्जन व पारस एचएमआरआई के निदेशक डॉ. एए हई अध्यक्ष पद पर आसीन हैं। वहीं ट्रस्टी के रूप में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर सैय्यद सबा करीम, भारती भवन के संजीब बोस, शिक्षाविद् प्रो. सैय्यद नफीस हैदर, वरिष्ठ पत्रकार संजय सलील, डॉ. रंजना कुमारी, शिक्षाविद् सैय्यद सुल्तान अहमद, ओवियन चेलवेन, राजीव रंजन और चंद्रमणि सिंह शामिल हैं। एडवांटेज सपोर्ट के अंतर्गत ही सामाजिक जिम्मेदारी के तहत एडवांटेज केयर संचालित किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*