BHU गैंगरेप के तीनों आरोपी भाजपाई, कैसे बचेगी बेटी?

BHU गैंगरेप के तीनों आरोपी भाजपाई, कैसे बचेगी बेटी?

BHU गैंगरेप के तीनों आरोपी भाजपाई, कैसे बचेगी बेटी? आरोपियों की तस्वीरें प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के साथ। राष्ट्रवादी गोदी एंकर भी हुए बेनकाब।

बनारस हिंदू विवि कैंपस में एक छात्रा से गैंगरेप करने वाले तीनों आरोपी भाजपाई निकले। इनकी तस्वीरें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी, भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय के साथ दिख रही हैं, जो सोशल मीडिया में वायरल हैं। राहुल गांधी के फ्लाइंग किस पर देश में तूफान मचाने वाले गोदी एंकर इस जघन्य कांड पर पूरी तरह खामोश हैं। हां, अगर रेप के आरोपी की तस्वीर राहुल गांधी या अखिलेश यादव के साथ होती, तो इनकी सक्रियता दिखती। गैंगरेप का आरोपी है कुणाल पांडे, वाराणसी भाजपा आईटी सेल का संयोजक, सक्षम पटेल, वाराणसी भाजपा आईटी सेल का सह संयोजक तथा अभिषेक चौहान, वाराणसी भाजपा आईटी सेल कार्य समिति सदस्य।

याद रहे दो महीना पहले गैंग रेप की घटना के बाद जब पहली बार यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष अजय राय ने बयान दिया था कि घटना में भाजपाई शामिल हैं, तो उनके खिलाफ थाने में मामला दर्ज किया गया था और राहुल गांधी का पुतला जलाया गया था। आश्चर्य यह है कि तीनों के सोशल मीडिया अकाउंट डिलिट कर दिए गए हैं। जब ये पुलिस की गिरफ्त में हैं, तो इनका अकाउंट किसने डिलिट किया? जाहिर है, इनकी तस्वीरें जब भाजपा नेताओं के साथ उजागर होने लगीं, तब बेइज्जती से बचने के लिए अकाउंट डिलिट किए गए।

कल जब तीनों की गिरफ्तारी हुई, उसके बाद कांग्रेस तथा सपा नेताओं ने भाजपा के खिलाफ हमला बोल दिया। बिहार के राजद और जदयू तथा सभी वाम दलों ने भी भाजपा को निशाने पर लिया है। अब सबसे बड़ा सवाल यह है कि जब छात्रा ने रेपिस्टों की पहचान कर ली थी, तब इनकी गिरफ्तारी 60 दिनों के बाद क्यों हुई, वे कौन लोग हैं, जो इन्हें गिरफ्तार होने से इतने दिन बचा कर रखे, ऐसे कई सवालों का उत्तर शायद ही मिल सके।

साल 2023 के अंतिम दिन आरोपियों की गिरफ्तारी हुई, लेकिन 2024 के पहले दिन भी सोशल मीडिया पर भाजपा बुरी तरह घिरी हुई है। अभी तक इन्हें संस्कारी बताने वाले सामने नहीं आए हैं, लेकिन आश्चर्य नहीं कि इनके बचाव में लोग सामने आएं। लोग पूछ रहे हैं कि जब प्रधानमंत्री के क्षेत्र में ही बेटी सुरक्षित नहीं है, तो क्या होगा?

कर्पूरी जयंती पर दिखेगी पिछड़ों की ताकत, RJD का बड़ा कार्यक्रम