बिहार से इकलौते सांसद मनोज झा को संसद रत्न अवार्ड

बिहार से इकलौते सांसद मनोज झा को संसद रत्न अवार्ड

बिहार के राजद सांसद मनोज झा संसद रत्न अवार्ड के लिए चुने गए। यह अवार्ड 13 सांसदों को दिया जाएगा। 13 में आठ लोकसभा तथा 5 राज्यसभा के सदस्य हैं।

राजद सांसद मनोज झा बिहार के इकलौते सांसद हैं, जिन्हें संसद रत्न-2023 के लिए चुना गया है। हर साल दिए जाने वाले इस अवार्ड के लिए इस बार 13 सांसद चुने गए हैं, जिनमें आठ लोकसभा तथा 5 राज्यसभा के सदस्य हैं। यह सम्मान देने का निर्णय संसदीय मामलों के मंत्री अर्जुन राम मेघवाल और भारत के पूर्व चुनाव आयुक्त टीएस कृष्णमूर्ति की अध्यक्षता वाली जूरी समिति ने किया है। यह सम्मान 25 मार्च को सिविल सोसाइटी की ओर से दिया जाएगा।

जिन सांसदों को यह सम्मान दिया जा रहा है, उनके लोकसभा सदस्यों के नाम हैं विद्युत वरण महतो, भाजपा झारखंड, डॉ सुकांत मजूमदार, भाजपा, प. बंगाल, कुलदीप राय शर्मा, कांग्रेस, अंडमान निकोबार, डॉ हीना विजय कुमार गावित, भाजपा, महाराष्ट्र, अधीर रंजन चौधरी, कांग्रेस प. बंगाल, गोपाल चेनैय्या शेट्टी, भाजपा, महाराष्ट्र, सुधीर गुप्ता, भाजपा, महाराष्ट्र, अमोल रामसिंह कोल्हे, कांग्रेस, महाराष्ट्र तथा राज्यसभा से डॉ. जॉन ब्रिटास, सीपीएम, केरल, मनोज झा, राजद, बिहार, फौजिया तहसीन अहमद खान, एनसीपी, महाराष्ट्र, शिशंभर प्रसाद निषाद, सपा, यूपी तथा छाया वर्मा, कांग्रेस छत्तीसगढ़

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी चुने गए सांसदों को बधाई दी और कहा कि आप अपने अनुभवों से संसद की कार्यवाही को समृद्ध करते रहें। राजद ने भी सांसद मनोज झा को संसद रत्न अवार्ड दिए जाने के निर्णय की सराहना की है। राजद के प्रदेश प्रवक्ता चितरंजन गगन ने सांसद मनोज झा को बधाई और शुभकामना दी है। एक अन्य प्रदेश राजद प्रवक्ता एजाज़ अहमद ने राज्यसभा सांसद डॉ. मनोज कुमार झा को “संसद रत्न” पुरस्कार के लिए नामित किये जाने पर बधाई देते हुए कहा कि इन्होंने राज्यसभा के अंदर जिस तरह से मजबूती के विचारपरक और आमजनों के हितों में तथा बिहार के सामाजिक ,आर्थिक और राजनीतिक सोच को सदन के पटल पर मजबूती से रखते रहें हैं, यह हम सभी के लिए गौरव की बात है। एजाज ने आगे कहा कि राज्यसभा में जिस बेबाकी अंदाज़ से केंद्र की नीतियों को उजागर किया तथा अपने आवाज से सदन के अंदर राष्ट्रीय जनता दल के विचारों को रखते रहे हैं उसके लिए राजद का एक- एक नेता और कार्यकर्ता उनके विचारों का कायल है।

IPS सुशील हुए फेसबुक लाइव, बताया कैसे बचें साइबर क्राइम से