केंद्र के एक पत्र से सैकड़ों की नौकरी गई, आंदोलनकारियों से मिले मंत्री

केंद्र के एक पत्र से हजारों की नौकरी गई, आंदोलनकारियों से मिले मंत्री

बाल विकास परियोजना में कार्यरत प्रखंड परियोजना सहायक बिहार सरकार के मंत्री से मिले। ये पद अगस्त में खत्म कर दिए गए। केंद्र के निर्णय से युवा परेशान।

पूर्व से कार्यरत और आंदोलनकारी प्रखंड परियोजना सहायकों से बात करते मंत्री

प्रदेश जदयू मुख्यालय में गुरुवार को समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी जी एवं परिवहन मंत्री शीला मंडल ने
आईसीडीएस के अंतर्गत चलने वाले बाल विकास परियोजना में पूर्व से कार्यरत प्रखंड परियोजना सहायकों से मिले। इनकी मांग थी कि 29 जून 2019 से कार्यरत सभी सहायक के पद को जो 10 अगस्त 2022 के पत्र द्वारा 31 अगस्त 2022 से समाप्त कर दिया गया है, उसे पुनः कार्यरत रखा जाये। समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने इनकी बातों को गंभीरता पूर्वक सुनने के बाद कहा कि यह परियोजना आईसीडीएस के माध्यम से चल रही थी और केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने प्रखंड परियोजना सहायक के पद को विलोपित कर दिया है। उन्होंने आश्वासन दिया कि इस मामले में राज्य सरकार की पूरी सहानुभूति आपलोगों के साथ है। सरकार इसपर गंभीरता से विचार करते हुए जल्द ही कोई ठोस निर्णय लेगी।

समाज कल्याण मंत्री ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा राज्य सरकार पर की गयी टिप्पणी के संदर्भ में पूछने पर कहा कि बौखलाहट में वो अनाप-शनाप बोल रहे हैं। गृहमंत्री के बिहार दौरे के संदर्भ में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि वो कोई शिलान्यास या उद्घाटन करने नहीं आ रहे हैं, उनकी कोई भी चाल बिहार में कामयाब नहीं होगी।

परिवहन मंत्री शीला मंडल ने कहा कि भाजपा का काम तोड़-फोड़ का है, पर बिहार ने उनको जवाब देकर पूरे देश से उनके खात्मे की शुरुआत कर दी है। बिहार में विकास, मिल्लत और सद्भावना की बात ही चलती है। यहां भाजपा की कोई चाल कामयाब नहीं हो सकती। इस अवसर पर मुख्यालय प्रभारी प्रदेश महासचिव अरुण कुमार सिंह भी मौजूद रहे।

अमित शाह के आने के पहले उठी AMU Kishanganj को फंड की मांग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*