लालू के नित्यानंद पर बड़े आरोप के बाद भी BJP की चुप्पी के क्या मायने

लालू के नित्यानंद पर बड़े आरोप के बाद भी BJP की चुप्पी के क्या मायने। प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी और सुशील मोदी जैसे नेता क्यों नहीं आए बचाव में..।

राजद अध्यक्ष लालू यादव ने कल गोवर्धन पूजा के अवसर पर इस्कॉन मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद रामकृपाल यादव पर बड़े और भयानक आरोप लगाए, लेकिन भाजपा का कोई बड़ा नेता अपने दोनों यादव नेताओं के बचाव में सामने नहीं आया। यह एक बड़ा सवाल है। क्या भाजपा के बड़े नेताओं ने अपने दोनों यादव नेताओं पर लगाए गए आरोप पर सहमति दे दी है या उन्हें अकेला छोड़ दिया है?
लालू यादव ने कल भाजपा के बड़े नेता और केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय पर आरोप लगाया था कि वे पहले गाय-भैंस खरीद कर कटवाने का काम करते थे। हाजीपुर पशु मेले से गाय खरीद कर कटवाने का काम करते थे। यह बड़ा और भयानक आरोप है। इसी तरह लालू प्रसाद ने भाजपा सांसद राम कृपाल यादव के बारे में कहा था कि वे पहले बस स्टैंड में टेंपू चलवाते थे। बाद में होटल पर कब्जा करके रहते थे। लालू ने सीधे-सीधे रंगदारी करने का आरोप लगाया।

राजद अध्यक्ष ने जितने बड़े आरोप लगाए, उसके बाद उम्मीद थी कि भाजपा के तमाम बड़े नेता अपने दोनों यादव नेताओं के बचाव में जोर-शोर से कूद पड़ेंगे। लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। नौकरशाही डॉट कॉम ने सुशील मोदी का ट्विटर अकाउंट चेक किया, उसमें नित्यानंद और रामकृपाल यादव के पक्ष में कोई बयान नहीं दिखा। इसी तरह भाजपा के अन्य नेताओं के सोशल मीडिया अकाउंट में भी दोनों यादव नेताओं के पक्ष में कोई बयान, कोई दावा नहीं किया गया है।

भाजपा नेताओं की इस चुप्पी का क्या अर्थ निकाला जाए। क्या भाजपा नेतृत्व लालू प्रसाद के आरोपों से सहमत है या गुटबाजी की शिकार है। कल भाजपा नेता दावा कर रहे थे कि भाजपा में यादव नेताओं को सम्मान दिया जाता है, लेकिन जब लालू प्रसाद ने आरोप लगाए, तो कोई नेता आरोप का खंडन करने क्यों नहीं सामने आ रहे।

नित्यानंद राय गाय-भैंस कटवाने का काम करते थे : लालू

By Editor


Notice: ob_end_flush(): Failed to send buffer of zlib output compression (0) in /home/naukarshahi/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420