लालू ने शिक्षा मंत्री को हड़काया, IAS केके पाठक से विवाद हुआ ठंडा

लालू ने शिक्षा मंत्री को हड़काया, IAS केके पाठक से विवाद हुआ ठंडा

लालू ने शिक्षा मंत्री को हड़काया, IAS केके पाठक से विवाद हुआ ठंडा। बाद में मंत्री चंद्रशेखर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिले। जानिए मुख्यमंत्री ने क्या कहा।

बिहार में कई दिनों से शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर और विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक के बीच जारी विवाद अब ठंडा पड़ गया है। कल शाम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिक्षा मंत्री और अपर मुख्य सचिव दोनों को समझाया। पूरे विवाद को सुलझाने में सबसे बड़ी भूमिका तो राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद की रही। कल दिन भर तेजी से घटनाक्रम बदलते रहे। कल सुबह-सुबह शिक्षा मंत्री लालू प्रसाद से मिलने राबड़ी देवी के आवास पहुंचे थे। सूत्रों ने बताया कि दरअसल लालू प्रसाद ने ही शिक्षा मंत्री को बुलाया था। इसलिए मिलने जाते वक्त ही शिक्षा मंत्री समझ गए थे। इसीलिए पत्रकारों के किसी सवाल का उन्होंने जवाब नहीं दिया। पहले वे पूछते ही जवाब देने लगते थे।

लालू प्रसाद के हस्तक्षेप के बाद राबड़ी देवी ने प्रेस से कहा था कि कहीं कुछ नहीं है। सब ठीक है। कोई विवीद नहीं है। राजद सूत्रों ने बताया कि लालू प्रसाद ने शिक्षा मंत्री के बयानों का कहीं से समर्थन नहीं किया। बल्कि नाराजगी जताई। उसके बाद शिक्षा मंत्री ने अपने पांव पीछे खींच लिये। लालू प्रसाद ने शिक्षा मंत्री से कहा कि सरकार के मुखिया नीतीश कुमार हैं। उनसे जाकर मिलिए।

उसके बाद शिक्षा मंत्री की मुख्यमंत्री के करीबी मंत्री विजय कुमार चौधरी से मुलाकात हुई। विजय चौधरी ने बता दिया कि मुख्यमंत्री इस विवाद से नाराज हैं। फिर शाम को शिक्षा मंत्री मुख्यमंत्री से मिलने पहुंचे। नौकरशाही डॉट कॉम ने पहले ही बताया था कि इस पूरे विवाद में मंत्री की छवि पर ही सवाल उठ रहे हैं। आम लोग तो स्कूलों में परिवर्तन देख रहे हैं और उन्हें अच्छा लग रहा है। लोगों को उम्मीद है कि अब स्कूलों में पढ़ाई और व्यवस्था बेहतर होगी। आईएएस केके पाठक के निर्णयों से स्कूल से गायब रहने वाले शिक्षक और कर्मी ही परेशान हैं। बच्चे और अभिभावक खुश हैं। अब मास्टर जी समय से पहले आ जाते हैं। पढ़ाई हो रही है और दोपहर का भोजन भी बेहतर हो गया है।

IAS KK Pathak की ‘रॉबिनहुड’ छवि से क्यों बेचैन हैं शिक्षा मंत्री

कुछ चैनल खबर चला रहे हैं कि शिक्षा मंत्री को तेजस्वी यादव के विदेश दौरे से लौटने का इंतजार है। ये चैनल नाहक अब इस विवाद के फिर से जिंदा होने की उम्मीद कर रहे हैं। तेजस्वी कभी लालू प्रसाद और नीतीश कुमार के खिलाफ नहीं जाएंगे। वे किसी की पीठ थपथपा कर विवाद को बढ़ाना कभी पसंद नहीं करेंगे।

दिल्ली पहुंचते ही छा गए लालू, बोले 300 सीटों पर जीतेगा विपक्ष