मलमास मेला : नालंदा के DM ने पंडा समाज के साथ की मीटिंग

मलमास मेला : नालंदा के DM ने पंडा समाज के साथ की मीटिंग

मलमास मेला : नालंदा के DM ने पंडा समाज के साथ की मीटिंग। पिछली बार 55 लाख लोग आए थे। जिला प्रशासन शांतिपूर्ण आयोजन के लिए कर रहा तैयारी।

नालंदा में 18 जुलाई से मलमास मेला शुरू हो रहा है। नालंदा के DM शशांक शुभंकर ने मेले की तैयारी के सिलसिले में रागीर के पंडा समाज और साधु-संतों के साथ मीटिंग की। इससे पहले 15 जून को खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मेले की तैयारी की समीक्षी बैठक कर चुके हैं।

जुलाई-अगस्त में नालंदा में दो बड़े आयोजन हैं। पहला, लंगोट मेला, जो हफ्ते भर चलता है और दूसरा मलमास मेला, जो एक महीना चलता है और इस दौरान राज्य ही नहीं, दूसरे प्रदेश के लोग भी आते हैं। पिछली बार मलमास मेले में 55 लाख लोग आए थे। इस बार भी बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के आने की संभावना है।

जिलाधिकारी ने पंडा समाज के साथ मीटिंग में पंडा समाज का हर तरह का सहयोग देने का भरोसा दिया और मेले में श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की कोई कठिनाई न हो, इस सिलसिले में पंडा समाज से सक्रिय सहयोग की अपेक्षा जताई। जिलाधिकारी ने पंडा समाज के साथ बैठक के बाद तैयारी कार्य का खुद अवलोकन किया। अब मुश्किल से दो हफ्ते का समय रह गया है। इस दौरान यहां श्रद्धालुओं के ठहरने, पेयजल, शौचालय, साफ-सफाई, मेडिकल कैंप, कैंप में डॉक्टरों की तैनाती तथा दवा-आदि की व्यवस्था हर पहलू की बारीकी के साथ जांच की।

दो महीना पहले रामनवमी के पर्व पर तोड़-फोड़ हिंसा के बाद इस बार जिले के दोनों आयोजनों की तैयारी में जिला प्रशासन विशेष सतर्कता बरत रहा है। किसी भी तरह के हथियार के साथ प्रदर्शन पर रोक लगा दी गई है। बाजे-गाजे पर रोक नहीं हैं। जुलूस के रूप में जाने या जुलूस निकालने की इजाजत नहीं होगी।

इससे पहले राजगीर में खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मलमास मेले की समीक्षा बैठक कर चुके हैं। उक्त बैठक में हर विभाग के आला अधिकारी मौजूद थे।

जदयू ने चिराग को घेरा, DIG की पत्नी मुकाबले के लिए तैयार