Mob Lynching : पीडितों को IG से मिलने से रोका, दरभंगा में प्रदर्शन

Mob Lynching : पीडितों को IG से मिलने से रोका, दरभंगा में प्रदर्शन

समस्तीपुर में Mob Lynching के शिकार लोगों के परिजनों को पुलिस ने दरभंगा आने से रोक दिया। वे आईजी से फरियाद करने आ रही थीं। माले ने निकाला सत्याग्रह मार्च।

पिछले महीने समस्तीपुर के आधारपुर गांव में मॉब लिंचिंग की घटना में एक शिक्षिका की पीट-पीट कर हत्या के खिलाफ भाकपा (माले) ने दरभंगा में सत्याग्रह मार्च निकाला। माले की पॉलित ब्यूरो के सदस्य धीरेंद्र झा के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने मार्च निकाला और कहा कि अगर भीड़ हिंसा में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं हुई, तो पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के समक्ष प्रदर्शन किया जाएगा।

माले नेता धीरेंद्र झा ने बताया कि शिक्षिका की तीन बेटियां हैं। वे घटना की चश्मदीद गवाह भी हैं। वे आज आईजी से मिलने दरभंगा आ रही थीं, पर पूसा में पुलिस ने उन्हें रोक दिया। उन्हें आईजी से फरियाद तक करने नहीं दिया गया। यह सरासर अन्याय है।

धीरेंद्र जा ने बताया कि पिछले 21 जून को समस्तीपुर के आधारपुर में श्रवण यादव की हत्या हो गई। इसके बाद पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इसका फायदा उठाकर उन्मादी शक्तियों ने भीड़ जुटाई और सनोवर खातून के घर पर हमला कर दिया। सनोवर स्कूल शिक्षिका हैं। उन्हें बुरी तरह पीटा गया। उनके कपड़े तक फाड़ डाले गए। भीड़ ने पीट-पीटकर उनकी हत्या कर दी। भीड़ ने अनवर नाम के एक अन्य व्यक्ति की भी पीट-पीटकर हत्या कर दी।

भीड़ हिंसा की घटना के 15 दिन हो गए, पर अबतक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। घटना की चश्मदीद गवाह सनोवर की बेटियों को भी आईजी से मिलकर न्याय की मांग करने से रोक दिया गया।

भीड़ हिंसा में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी की मांग पर आज दरभंगा में माले ने सत्याग्रह मार्च निकाला। मार्च में महिला संगठन एपवा, इंसाफ मंच और माले कार्यकर्ता शामिल थे। मार्च का नेतृत्व धीरेंद्र झा, नेयाज अहमद, वंदना सिंह, खुर्शीद खैर ने किया।

मोदी के हनुमान Chirag अगले विस्तार में बनेंगे मंत्री!

माले नेता धीरेंद्र झा ने कहा कि अबतक बिहार में भीड़ हिंसा के शिकार पुरुष ही होते रहे हैं। पहली बार भीड़ ने एक महिला को शिकार बनाया। यह बेहद खतरनाक है। इसके बावजूद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार चुप हैं। उन्होंने कहा कि श्रवण यादव की हत्या भी जघन्य है। श्रवण के हत्यारे की भी गिरफ्तारी हो। भीड़ की हिंसा में शामिल सभी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई, तो पटना में मुख्यमंत्री के समक्ष प्रदर्शन किया जाएगा।

Youth Congress ने गियर बदला, सेवा के बाद अब सड़क पर संघर्ष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*