पूर्व टेस्ट क्रिकेटर बोले, लंबे समय तक खेलना है, तो इंजुरी से बचें

पूर्व टेस्ट क्रिकेटर बोले, लंबे समय तक खेलना है, तो इंजुरी से बचें

बीसीए के वेबिनार में पूर्व टेस्ट विकेटकीपर दीप दासगुप्ता और भारतीय टीम के पूर्व फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. अली ईरानी शामिल हुए। दोनों ने खिलाड़ियों को दिए टिप्स।

आज बिहार क्रिकेट संघ द्वारा पूर्व से निर्धारित वेबीनार प्रशिक्षण शिविर दोपहर 1:30 बजे से आयोजित किया गया। वेबीनार को बीसीए कमेटी ऑफ मैनेजमेंट के सदस्य जिला प्रतिनिधि संजय कुमार सिंह ने संबोधित करते हुए अतिथियों का स्वागत किया और खिलाड़ियों से अतिथियों का परिचय कराया। बीसीए वेबीनार को तकनीकी रूप से संचालित सुबीरचंद्र मिश्रा, ओमप्रकाश तिवारी और राजेश बैठा कर रहे थे।

बीसीए मीडिया कमेटी के संयोजक कृष्णा पटेल ने बताया कि बीसीए के इस वेबीनार प्रशिक्षण शिविर में आज अतिथि के रूप में भारतीय टेस्ट टीम के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज दीप दासगुप्ता और विश्व विख्यात भारतीय टीम के पूर्व फिजियोथेरेपिस्ट डॉ. अली ईरानी शामिल हुए और दोनों अतिथियों ने दोपहर 1:52 बजे वेबीनार से जुड़कर 3:10 बजे तक बारी- बारी से बिहार के होनहार खिलाड़ियों को संबोधित किया।

डॉ. अली ईरानी ने खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए विभिन्न प्रकार की सावधानियां बरतने और चोटिल होने से बचने के लिए कई सुझाव दिए साथ ही साथ अन्य प्रकार की स्पोर्ट्स इंजरी से जूझ रहे खिलाड़ियों को निपटने का भी टिप्स बताएं। डॉ. अली ईरानी ने खिलाड़ियों को नसीहत देते हुए कहा की कोविड-19 के कारण लॉकडाउन के बाद खिलाड़ी जब मैदान में जाएंगे तो धीरे-धीरे अपने शरीर की ऊर्जा का इस्तेमाल करें। एकाएक बहुत ज्यादा रनिंग व अन्य प्रकार के व्यायाम या लंबे समय तक अभ्यास करने से बचें।

बीसीसीआई मीटिंग में बीसीए ने कहा प्लेयर्स को मिले बकाया राशि

लंबे समय से खेल मैदान से दूर होने के बाद आप अपने शरीर पर जब एकाएक ज्यादा भार देंगे तो स्पोर्ट्स इंजरी होने की संभावना अधिक बनी रहती है और खिलाड़ियों को इससे बचना चाहिए।
खिलाड़ी छोटी स्पोर्ट्स इंजरी को नजरअंदाज ना करें। अगर आपको स्पोर्ट्स इंजरी हुई है तो तुरंत किसी स्पोर्ट्स फिजियोथैरेपी से संपर्क कर उसका उचित इलाज करा लें।

वहीं पूर्व भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज दीप दासगुप्ता ने खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए खिलाड़ियों को एक सफल विकेटकीपर, बल्लेबाज या गेंदबाज बनने व देश- प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कई गुर सिखाए।
खिलाड़ियों को स्पोर्ट्स इंजरी से बचने, खेल भावना के साथ अपने आपको पूरी अनुशासित बनाए रखने, योगा से जोड़े रखने, क्रिकेटिंग व्यायाम को अपने दिनचर्या में नियमित रूप से शामिल करने, खानपान का उचित ख्याल रखने, एकाग्रता बनाए रखने व अन्य आवश्यक सावधानियां बरतने सहित दृढ़ निश्चय के साथ नियमित अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित किया।
जबकि आज के इस वेबीनार में अतिथियों में शामिल होने वाले भारतीय विश्व विजेता टीम के पूर्व तेज गेंदबाज श्रीसंत कई बार जुड़े लेकिन मौसम खराब होने के साथ सही नेटवर्क नहीं मिल पाने के कारण अपनी अनुभव और बातों को खिलाड़ियों के समक्ष रखने में असमर्थ रहें और उन्होंने एक वीडियो के माध्यम से यह संदेश दिया है कि अगर बीसीए के पदाधिकारी चाहेंगे तो मैं पुनः बीसीए वेबीनार से जुड़कर खिलाड़ियों के समक्ष अपना अनुभव और विचार प्रकट करना चाहूंगा।

वेबीनार में मॉडरेटर के रूप में निशांत दयाल ने भी खिलाड़ियों का संबोधित कर अपना विचार प्रकट किया। इस अवसर पर 2916 लोग इस वेबीनार से जुड़े और अंत तक 1259 लोग जुड़े रहे। जिसमें अतिथियों के साथ सहयोगी के रुप में बिहार रणजी टीम के फिजियो डॉ. हेमेंदू सिंह, पूर्व रणजी क्रिकेटर तरुण कुमार, कोच प्रमोद कुमार, रॉबिन सहित अन्य लोग भी मौजूद थें । जिन्होंने खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि बिहारी खिलाड़ियों के भविष्य निर्माण में यह कार्यक्रम एक मील का पत्थर साबित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*