राष्ट्रपति शासन की मांग करनेवाले पहले PM से मांगे इस्तीफा : शहजाद

राष्ट्रपति शासन की मांग करनेवाले पहले PM से मांगे इस्तीफा : शहजाद

राष्ट्रपति शासन की मांग करनेवाले पहले PM से मांगे इस्तीफा : शहजाद। जदयू नेता मो. शहजाद ने पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के बयान का दिया करारा जवाब।

जनता दल यूनाइटेड के युवा नेता मोहम्मद शहजाद ने आज अपने जारी प्रेस बयान में पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी के उस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी, जिसमें उन्हें बिहार में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। कहा कि विकास पुरुष बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कृपा पर मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे जीतन राम मांझी की मांग हास्यास्पद है।

शहजाद ने कहा कि मांझी हिम्मत है तो पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से इस्तीफा मांगें, जिन्होंने लोकतंत्र के महान मंदिर संसद को असुरक्षित रखा और जिनकी आपराधिक लापरवाही के कारण 13 दिसंबर को लोकसभा का अतिक्रमण की भयावह घटना हुई। शहजाद ने कहा कि केंद्र सरकार अपनी कमजोरियों को छिपाने के लिए हथकंडे अपना रही है। 141 सांसदों को सदन से बाहर कर देना लोकतंत्र पर हमला है। प्रधानमंत्री का रहस्यमयी चुप्पी तोड़ना चाहिए।

शहजाद ने कहा कि प्रधानमंत्री और गृहमंत्री की चुप्पी का दो ही अर्थ है या तो यह मोदी जी और अमित शाह की साजिश है या फिर वर्तमान केंद्र सरकार विफल हो गयी है। शहजाद ने जनता, विशेषकर मुसलमानों से पुरजोर अपील की है कि वे वर्तमान केंद्र सरकार की उकसावे वाली कार्रवाइयों से उत्तेजित न हों और सभी प्रकार की साजिशों से सावधान रहें क्योंकि जैसा कि कहा जा रहा है कि मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार लोकसभा चुनाव से पहले कोई बड़ी दुर्घटना या त्रासदी कराकर देश के शांतिपूर्ण माहौल को बाधित कर सकती है।

INDIA गठबंधन बैठक के दूसरे दिन ही लालू-तेजस्वी को ED नोटिस