जाकिर नाइक के खिलाफ संघी प्रोपगंडा हुआ धरासाई, पुलिस ने एफसीआरए केस किया बंद

इस्लामी विद्वान जाकिर नाइक की छवि बिगाड़ने के संघ और मीडिया के एक हिस्से के अभियान की कलई अब खुलनी शुरू हो गयी है. मुम्बई पुलिस ने सुबूतों के अभाव में उनकी संस्था के खिलाफ जांच की फाइल बंद कर दी है.zakir.naik

महाराष्ट्र के सीनियर अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया है कि “हमारे लिए अनियमितता की जांच के लिए शिकायत का होना जरूरी है. इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के केस में, जिस पर 60 करोड़ रुपये अनुदान लेने का संदेह था, इस मामले में हमें कोई शिकायत नहीं मिली और न ही कोई इस मामले में एफआईआर दर्ज कराने के लिए सामने आया इसलिए हमने इस मामले की फाइल की जांच बंद कर दी”.

संबंधित खबर-

जाकिर नाइक के फाउंडेशन ने कहा फंड ट्रांसफर का जैसे चाहे जांच करे सरकार

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने खुद ही इस मामले में जांच करने का आदेश दिया था. उन्होंने तब कहा था कि जाकिर नाइक की संस्था इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन को खाड़ी देशों से मिले अनुदान में अनियमितता का संदेह है और उनकी सरकार इसकी जांच करेगी.

महाराष्ट्र सरकार की जांच की कार्रवाई शुरू करने के तुरत बाद इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन ने चुनौती दी थी कि 60 करोड़ रुपये के कथिन अनुदान के खिलाफ सरकार जिस तरह चाहे जांच करा ले.

यह भी पढ़ें- जाकिर के खिलाफ औंधे मुंह गिरा मीडिया का दुष्प्रचार, सरकार ने माना आतंकियों से नहीं कोई संबंध

इस संबंध में मुम्बई पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने नाइक के खिलाफ तैयार की थी. इसी रिपोर्ट के आधार पर केंद्रीय और राज्य की एजेंसियों ने यहां तक ऐलान किया था कि वे  इस्लामी रिसर्च फाउंडेशन का रजिस्ट्रेशन रद करने की प्रक्रिया शुरू कर रही हैं. जाकिर के इस एनजीओ के खिलाफ फारेन एक्सचेंज रेग्युलेशन एक्ट (एफसीआऱए) के तहत कारण बताओ नोटिस भी दिया गया था.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार जिन कम्पनियों या संस्थान के लिए खाड़ी देशों से 60 करोड़ रुपये अनुदान मिलने की बात कही गयी थी उसके प्रबंध निदेशक के पद को जाकिर नाइक ने 13 मार्च 2013 को ही छोड़ दिया था.

जाकिर नाइक मामले में बेशर्म कुतर्कों पर उतर आया है ये न्यूज चैनल!

 

About Editor

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*