रफाल डाक्युमेंट चोरी पर केजरीवाल ने कहा मोदी बन चुके हैं देश के लिए खतरनाक

रफाल डाक्युमेंट चोरी पर केजरीवाल ने कहा मोदी बन चुके हैं देश के लिए खतरनाक

सुप्रीम कोर्ट में रफ़ाल मामले में बुधवार को एटॉर्नी जनरल (एजी)  ने कहा कि लड़ाकू विमान के सौदे से जुड़े ख़ास दस्तावेज रक्षा मंत्रालय से चोरी हो गए हैं. इस खबर के मीडिया में आने के बाद देश भर में खलबली मच गयी है. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए आम आदमी पार्टी के संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि नरेंद्र मोदी देश के लिए खतरनाक बन चुके हैं.

केजरीवाल ने कहा मोदी हैं देश के लिए खतरनाक

दर असल रफाल खरीद मामले में सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की गयी है. इस दौरान सरकार का पक्ष रखते हुए एटॉर्नी जनलर ने अदालत से कहा कि रफाल डील से जुड़ी फाइलें चोरी हो गयी हैं.

उधर विपतक्ष इस मामले में एक साल से आरोप लगाता रहा है कि प्रधानमंत्री ने रफाल डील मामले में रिलाएंस कम्पनी के अनिल अम्बानी को 30 हजार करोड़ रुपये की कमाई करवाई है.

इस घटना क्रम के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विट किया और कहा कि   इसका मतलब मोदी जी ने चोरी की है। अब सारे काग़ज़ ग़ायब कर दिए। अगर चोरी नहीं की होती तो काग़ज़ ग़ायब करने की क्या ज़रूरत थी? ऐसा प्रधान मंत्री देश के लिए बेहद ख़तरनाक है जो सेना से सम्बंधित काग़ज़ ही ग़ायब करवा दे।

 
 
एजी ने कहा कि फ़ाइल चोरी की गई और एक राष्ट्रीय दैनिक अख़बार ‘द हिन्दू’ ने इसे प्रकाशित कर दिया.
 
एजी से जस्टिस रंजन गोगोई ने पूछा कि सरकार ने इस मामले में क्या कार्रवाई की है तो वेणुगोपाल ने कहा, ”हमलोग इसकी जांच कर रहे हैं कि फ़ाइल चोरी कैसे हुई. एजी ने कहा कि द हिन्दू ने गोपनीय फ़ाइल को छापा है. हाल ही में द हिन्दू ने रफ़ाल सौदे से जुड़ी कई रिपोर्ट छापी हैं जिनमें बताया गया है कि सरकार ने कई नियमों का उल्लंघन किया है.”
आपको याद हो कि फ्रांस की डासुल्ट एविएशन से 36 लाड़ाकू राफाल विमान खरीदने का सौदा हुआ था. जिसमें विपक्ष लगातार आरोप लगाता रहा है कि इस सौदे में भारी रिश्वतखोरी हुई . राहुल गांधी ने यहां तक आरोप लगाया कि चौकीदार( पीएम मोदी) ही इस मामले में चोरी करवाने वाले हैं जिन्होंने लड़ाकू विमान बनाने का कोई अनुभव नहीं रखने वाली कम्पनी रिलायेंस एवियेशन को तीस हजार करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*