2019 में इस्तीफा देनेवाले IAS शाह फैसल फिर सिविल सेवा में

2019 में इस्तीफा देनेवाले IAS शाह फैसल फिर सिविल सेवा में

देश में intolerance (असहिष्णुता) बढ़ रहा है, यह कहते हुए 2019 में इस्तीफा देकर राजनीति में जानेवाले IAS शाह फैसल फिर सिविल सेवा में आएंगे।

वर्ष 2009 में यूपीएससी के टॉपर रह चुके कश्मीर के आईएएस अधिकारी शाह फैसल ने 2019 में सिविल सेवा से इस्तीफा दे दिया था। तब उन्होंने कहा था कि देश में असहिष्णुता बढ़ रही है। उन्होंने कश्मीर की राजनीति में नागरिक-केंद्रित नई राजनीति शुरू करने के संकल्प के साथ त्यागपत्र दिया था। अब खबर है कि वे फिर से सिविल सेवा में वापस आ रहे हैं।

राजनीति की डगर बहुत कंटीली है। इस पर चलना आसान नहीं, खास कर जब आप सत्ता के खिलाफ हों। पहले सत्ता के खिलाफ त्यागपत्र देना फिर भी कुछ आसान था। लेकिन हाल के वर्षों में यह कठिन हो गया है। हां, सत्ता के साथ रहना हो, तो त्यागपत्र देकर विधायक, सांसद, मंत्री बनने वाले अनेक हैं। यह विडंबना ही है कि शाह फैसल के वापस सिविल सेवा में आने की खबर तब आ रही है, जब देश में असहिष्णुता अपने चरम पर है। शाह को त्यागपत्र देने के बाद कश्मीर के बड़े नेताओं के साथ गिरफ्तार किया गया था। उन्हें जेल में रहना पड़ा था।

आईएएस शाह फैसल ने खुद ही ट्वीट करके बताया कि सिविल सेवा से त्यागपत्र देने के बाद किस प्रकार तीन वर्षों में उन्हें निराशा हाथ लगी। उन्होंने जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट नाम से संगठन भी बनाया था। उन्होंने ट्वीट किया-मेरे जीवन के आठ महीने (Jan 2019-Aug 2019) इतने भारी साबित हुए कि लगा कि मैं समाप्त हो जाऊंगा। एक कल्पना के पीछे बागते हुए मैंने अपना वह सबकुछ खो दिया, जिसे मैंने वर्षों में तैयार किया था-नौकरी, दोस्त, प्रतिष्ठा, लोगों से संबंध सबकुछ। लेकिन मैंने कभी उम्मीद नहीं छोड़ी। मेरे आदर्शवाद ने मुझे परेशान कर दिया। लेकिन मुझे खुद पर भरोसा था कि मैं अपनी गलतियों को जरूर सुधार सकता हूं, कि जीवन मुझे एक और मौका देगा। मेरे भीतर का एक हिस्सा थक गया था और मैं उन यादों को भुला देना चाहता था। इसमें से ज्यादातर हिस्सा मैं बुला भी चुका हूं। समय शेष को भी पोंछ देगा।

शाह फैसल ने लगातार तीन ट्वीट करके अपने नए निर्णय की जानकारी साझा की है। उन्होंने कहा- सोचा कि आपसे अपनी बात साझा करूं कि जीवन बहुत सुंदर है। खुद को दुबारा एक मौका देना हमेशा बेशकीमती होता है। जीवन के थपेड़े हमें मजबूत करते हैं। अतीत से बाहर निकलना जरूरी है। मैं दुबारा शुरुआत करते हुए रोमांचित हूं।

नीतीश ने बनाया रिकॉर्ड, छह इफ्तार में हुए शामिल, क्यों

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*