राजद विधायक ने मंत्री संजय झा को दी चुनौती

बिहार विधानसभा में  राष्ट्रीय जनता दल के विधायक अब्दुस सुबहान ने राज्य सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि यदि जल संसाधन मंत्री का जवाब सही हुआ तो वह विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे।

विधानसभा में तारांकित प्रश्न के उत्तर में जल संसाधन मंत्री संजय झा ने जब पूर्णिया जिले में बायसी प्रखंड के हाथी बंधा गांव को परमान नदी के कटाव से कोई खतरा नहीं बताया तब राजद विधायक अब्दुस सुबहान ने चुनौती देते हुए कहा कि मंत्री का जवाब सही नहीं है। इसकी जांच करा ली जाए और यदि गांव सुरक्षित हुआ तो वह इस्तीफा दे देंगे।

इस पर विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने मंत्री को निर्देश दिया कि वह इस मामले की वरीय पदाधिकारी से जांच करा लें। इसी दौरान राजद के कुछ सदस्य एक साथ अपनी सीट से ही कहने लगे कि इस मामले में मंत्री सही होंगे तो श्री सुबहान इस्तीफा दे देंगे और यदि मंत्री का जवाब गलत होगा तो वह इस्तीफा दें तब सभाध्यक्ष ने कहा कि जब सदस्य का काम हो जाएगा तो किसी को इस्तीफा देने की क्या जरूरत है।

राजद के भाई वीरेंद्र ने कहा कि जिस अधिकारी की गलत रिपोर्ट पर मंत्री सदन में जवाब दे देते हैं, उन अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। इस पर सभा अध्यक्ष श्री चौधरी ने भी कहा कि क्षेत्रीय अधिकारी यदि गलत रिपोर्ट देते हैं और उसके आधार पर सरकार यहां सदन में गलत चित्र प्रस्तुत करने के लिए बाध्य होती है और बाद में जांच में रिपोर्ट गलत पाई जाती है तो उस पर सरकार को गलत रिपोर्ट देने वाले अधिकारी पर कार्यवाही करनी चाहिए। उधर, भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी लेनिनवादी (भाकपा-माले) के महबूब आलम ने संसदीय प्रणाली की गरिमा को बनाए रखने के विषय पर सदन में चर्चा कराने की मांग की।
बिहार विधानसभा में आज शून्यकाल के दौरान भाकपा माले के महबूब आलम ने कहा, “संसदीय प्रणाली हमारे देश के लोकतंत्र की मुख्य शक्ति है लेकिन दिन-प्रतिदिन बिहार में इसकी गरिमा में गिरावट हो रही है। उनका मानना है कि सत्तापक्ष को इस मामले में ज्यादा संवेदनशील होना चाहिए इसलिए संसदीय प्रणाली की गरिमा को बनाए रखने के लिए ठोस कदम उठाएं जाएं।“ उन्होंने कहा कि इस विषय पर सदन में चर्चा कराई जानी चाहिए।
इस पर सभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने कहा कि आसन भी आपकी भावना से सहमत है और अपेक्षा करता है कि सदन की गरिमा को बनाए रखने में आपका सहयोग मिलेगा। आप ही बताएं कि क्या प्ले कार्ड और पोस्टर लेकर सदन में घूमने से सदन के मर्यादा बढ़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*