राजकीय शोक के बाद कांग्रेस करेगी चुनाव प्रचार का आगाज़

बिहार विधान सभा चुनाव को मद्देनज़र रखते हुए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस बिहार क्रांति महासम्मेलन के ज़रिये चुनाव प्रचार का आगाज़ करने जा रही है. जल्दी ही इसकी घोषणा हो सकती है.

कांग्रेस पार्टी आज से विधानसभास्तर का सम्मेलन शरू करने जा रही थी. लेकिन पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन के बाद कार्यकर्म को फिलहाल टाल दिया है.

केंद्र सरकार ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर सात दिन के राजकीय शोक की घोषणा की। गृह मंत्रालय ने कहा कि प्रणब मुखर्जी के सम्मान में देश में 31 अगस्त से लेकर छह सितंबर तक राजकीय शोक रहेगा। राजकीय शोक के दौरान देश भर में उन सभी भवनों पर राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा जहां ध्वज लगा रहता है।

हालांकि पार्टी ने राजकीय शोक के बाद विधानसभास्तर पर पांच हजार लोगों को वर्चुअली सम्मेलन से जोड़ने का लक्ष्य रखा है.

बिहार क्रांति महासम्मेलन की तैयारियों को देखे तो सदाकत आश्रम में एक बड़ा बड़ा प्लेटफार्म तैयार किया गया है. इस महासम्मेलन के अंदर पार्टी 100 छोटे सम्मेलन करेगी जिसमे बिहार के विधान सभा स्तर के नेताओं के साथ-साथ दिल्ली से नेतागण भी जुड़ेंगे।

बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा ने कहा है कि बिहार क्रांति महासम्मेलन चरण में दो विधान सभा क्षेत्रो नरकटियागंज और बेतिया में वर्चुअल सम्मलेन आयोजित किया जायेगा। पहले चरण में दो विधानसभा क्षेत्रों में सम्मेलन होगा. हम जरूरत के मुताबिक सम्मेलन की संख्या बढ़ा भी सकते हैं. आगे और भी सहयोगी दलों को इसमें शामिल किया जायेगा.

पार्टी के नेताओं ने प्रणब मुखर्जी के निधन होने पर शोक व्यक्त किया। चुनाव की तैयारियों पर नेताओं ने कहा की हम लोग कोरोना महामारी को देखते हुए अभी चुनाव कराने के पक्ष में नहीं थे. लेकिन अब चुनाव होने वाला है तो हमलोग भी पूरी तैयारी के साथ चुनाव प्रचार में उतरेंगे। हमलोग घर घर जाकर बीजेपी की केंद्र एवं नीतीश की सरकार की विफलताओं के बारे में बताएँगे।

पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने कहा है कि फिलहाल पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन के कारण हमने कार्यकर्म को टाल दिया है. इसकी नयी तारीखों की घोषणा राजकीय शोक के बाद की जा सकेगी।

पार्टी के सूत्रों ने कहा कि वर्चुअल सम्मलेन के ज़रिये कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं के साथ जुड़ेंगे और जनता से संवाद करेंगे।

कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के बिहार आने की चर्चाओं पर बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष मदन मोहन झा (Madan Mohan Jha) ने कहा था कि आज के सम्मेलन में राहुल गांधी शामिल नहीं थे. राहुल गांधी के लिए अलग से रैली की जाएगी जिसमें तीन से चार लाख लोग जुड़ेंगे.

हाल ही में कांग्रेस पार्टी ने पूर्व जनरल सेक्रेटरी शकील अहमद का निलंबन रद्द कर दिया।पार्टी के इस कदम को 2020 बिहार चुनावों के साथ जोड़ कर देखा जा रहा है.

आज़ादी के बाद 19 में से 14 कांग्रेस अध्यक्ष गैर गाँधी परिवार से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*