छठे चरण में आठ सीटों के लिए प्रचार समाप्‍त

बिहार की चालीस में से आठ संसदीय सीटों पर छठे चरण में 12 मई को होने वाले मतदान के लिए आज शाम छह बजे प्रचार का शोर थम गया और अब प्रत्याशी जनसम्पर्क के जरिये वोट जुटाने में लग गये हैं।


सतरहवें लोकसभा चुनाव (2019) के लिए छठे चरण में जिन आठ संसदीय क्षेत्र में रविवार को मतदान होना है, उनमें वाल्मीकिनगर, पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज (सुरक्षित), सीवान और महाराजगंज शामिल हैं। इन क्षेत्रों में 1.38 करोड़ मतदाता 12 मई को सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक मतदान कर 127 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। वाल्मीकिनगर के वाल्मीकिनगर और रामनगर तथा वैशाली के मीनापुर, पारू और साहेबगंज में वोटिंग सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक होगी। वैशाली और पूर्वी चंपारण में सबसे अधिक 22-22 तथा पश्चिमी चंपारण में सबसे कम नौ उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

इन आठ संसदीय क्षेत्र से किस्मत आजमा रहे दिग्गजों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रत्याशी एवं केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व केन्द्रीय मंत्री डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह, बिहार सरकार के पूर्व मंत्री और मौजूदा सांसद जनार्दन सिंह सिग्रीवाल तथा बाहुबली मोहम्मद शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब शामिल हैं।

छठे चरण के चुनाव वाले क्षेत्र के राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) प्रत्याशियों के पक्ष में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 04 मई को वाल्मीकिनगर संसदीय क्षेत्र के रामनगर में चुनावी सभा की लेकिन इस बार की आठ सीटों में से किसी सीट पर महागठबंधन के उम्मीदवार के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रचार नहीं किया ।

राजग उम्मीदवारों के लिए श्री मोदी के अलावा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, लोजपा प्रमुख रामविलास पासवान, जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने चुनाव प्रचार किया। वहीं, राजद, कांग्रेस और रालोसपा के महागठबंधन उम्मीदवारों के पक्ष में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव और पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, शत्रुघ्न सिंहा और कांग्रेस के बिहार के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने प्रचार किया।

वर्ष 2014 के पिछले लोकसभा चुनाव में छठे चरण की आठ में सात सीटें भाजपा ने जीती थी, जबकि वैशाली में उसकी सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) की जीत हुई थी। इस बार राजग में फिर से शामिल हुए जदयू के लिए भाजपा ने अपनी जीती हुई वाल्मीकिनगर, गोपालगंज (सु) और सिवान सीट छोड़ दी है।

राष्ट्रीय जनता दल के वरिष्ठ नेता सर्वोच्‍च न्‍यायालय के फैसेल पर प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि नीतीश सरकार के पास पूंजीपतियों पर लुटाने के लिए अरबों रुपये हैं लेकिन बिहार के भविष्य को पढ़ाने और आत्मनिर्भर बनाने वाले शिक्षकों के लिए धन नहीं है।

श्री यादव ने ट्वीट कर कहा, “मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शिक्षकों को भी ठग लिया। नीतीश कुमार और नरेन्द्र मोदी की निरंकुशता और मिलीभगत से आज बिहार के 3.5 लाख शिक्षकों के बीच समान काम के लिए समान वेतन नहीं मिलने से शोक की लहर है।”

नेता प्रतिपक्ष ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि नीतीश-मोदी के पास अपने प्रिय पूंजीपतियों पर लुटाने और भगाने के लिए खरबों रुपये हैं लेकिन बिहार के भविष्य को पढ़ाने और आत्मनिर्भर बनाने वाले शिक्षकों के लिए धन नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में उनकी सरकार बनने पर शिक्षकों के हितों से संबंधित सभी समस्याओं का समाधान किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*