PLF ने रच दिया नया इतिहास, आधी रात तक जमी रही महफिल

PLF ने रच दिया नया इतिहास, आधी रात तक जमी रही महफिल। अंदाज़ ए बयां और इवेंट दुबई और पटना लिटरेरी फेस्टिवल (पीएलएफ) द्वारा आयोजित पटना मुशायरा शानदार रहा।

अंदाज़ ए बयां और इवेंट दुबई, पटना लिटरेरी फेस्टिवल (पीएलएफ) और क़ौमी तंजीम पटना के सहयोग से आयोजित पटना मुशायरे नया इतिहास रच दिया। 13 अगस्त, 2023 की शाम को लोग कभी नहीं भूल पाएंगे। एम्स, पटना के पास द रॉयल बिहार होटल के स्वर्ण महल में आयोजुत मुशायरे का उद्घाटन बिहार विधान परिषद के सभापति देवेश चंद्र ठाकुर ने किया। मुख्य अतिथि चाणक्या लॉ यूनिवर्सिटी के कुलपति फैज़ान मुस्तफा और पूर्व केंद्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी थे।अंदाज़ ए बयां और इवेंट दुबई के प्रोमोटर रेहान सिद्दीकी और शाजिया किदवई सहित शहर के तमाम गणमान्य लोग उपस्थित थे। पीेलएफ के सचिव और संस्थापक खुर्शीद अहमद की सबने इतने शानदार मुशायरे और कवि सम्मेलन के लिए खूब सराहना की। महीनों की मेहनत का सुखद परिणाम देखकर स्वयं खुर्शीद अहमद भावुक हो गए। उन्होंने चार महीने की तैयारी के उतार-चढ़ाव का जिक्र किया तथा तमाम प्रायोजकों समेत मुशायरा के होस्ट पार्टनर द रॉयल बिहार के प्रबंध निदेशक अशफाक रहमान की भूमिका की जम कर तारीफ की।

द रॉयल बिहार होटल के मैनेजिंग डायरेक्टर अशफाक रहमान की भी सबने तारीफ की। होटल और मुशायरे का हॉल स्वर्ण महल की खूबसूरती और व्यवस्था से सारे श्रोता और अतिथि खुश थे।

विधान परिषद के सभापति देवेश चंद्र ठाकुर ने कहा कि वे भी मुशायरा आयोजित करते हैं। उर्दू बहुत प्यारी भाषा है। श्री ठाकुर अंत-अंत तक मुशायरे में जमे रहे। पूर्व केंद्रीय मंत्री अली अशरफ फातमी ने अपने कार्यकाल के दौरान उर्दू के विकास के लिए अपने योगदान का जिक्र किया। चाणक्या लॉ यूनिवर्सिटी के कुलपति फैज़ान मुस्तफा ने कहा कि पटना में उर्दू का भविष्य उज्जवल है। यहां उर्दू के इतने जानकार और प्रेमी मौजूद हैं, जिन्हें देखकर अच्छा लगा। आयोजन समिति के अध्यक्ष डॉ. एए हई सहित कई वक्ताओं ने अपने विचार व्यक्त किए। मुशायरा ऑर्गनाइजेशन केमेटी के फैजान अहमद ने मुशायरे को व्यवस्थित ढंग से संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। पीएलएफ के सदस्य ओबैदुर रहमान ने मुशायरे में अमुशासन बनाए रखा।

मुशायरे और कवि सम्मेलन में कवियों ने कभी खूब हंसाया, तो कभी महफिल को गंभीर भी किया। आधी रात तक चले मुशायरे में देशभर के प्रतिष्ठित कवि और कवयित्रियों ने अपनी रचनाएं पेश कीं। सर्वेश अस्थाना ने अपनी रचनाओं से श्रोताओं को खूब हंसाया। सबीना अदीब की पंक्तियां- तुम्हारा लहजा बता रहा है, तुम्हारी दौलत नई-नई है सुन कर श्रोता वाह-वाह कर उठे।

पटना का मुशायरा व कवि सम्मेलन इतिहास रचेगा : रेहान सिद्दीकी

By Editor