SaatRang : राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को क्यों कहा MIA

SaatRang : राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी को क्यों कहा MIA

यूक्रेन में भारतीय बच्चे आतंक के साए में हैं। मदद की गुहार लगा रहे। राहुल ने यूक्रेन में फंसी देश की बेटी का वीडियो शेयर करते हुए पीएम मोदी को कहा MIA।

कुमार अनिल

आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने यूक्रेन में फंसी भारत की बेटी का वीडियो शेयर किया। वीडियो में छात्रा बार-बार कह रही है कि भारत सरकार हमारे लिए कुछ नहीं कर रही है। आपलोग भारत में प्रतिवाद शुरू करिए, ताकि सरकार पर दबाव बने। यहां दुनिया के हर देश ने अपने लोगों को निकाल लिया है, पर भारतीय एबेंसी के अधिकारी हमारे फोन काल्स को काट दे रहे हैं। छात्रा ने अपने मोबाइल पर दिखाया कि किस प्रकार उसने एबेंसी के एक अधिकारी विक्रम कुमार को बार-बार फोन किया, पर उन्होंने फोन काट दिया।

लड़की कह रही है कि हमने रोमानिया बॉर्डर का वीडियो भेजा है, जिसमें लड़कियों के साथ स्थानीय पुलिस बदसलूकी कर रही है। हमें कहा जा रहा है कि बार्डर पर जाइए। बार्डर यहां से 800 किमी दूर है। हमारे लिए वहां पहुंचना असंभव है। आप भारत में सरकारी प्रचार पर भरोसा मत करें। हमारी सरकार हमारे लिए कुछ भी नहीं कर रही है। आप प्रोटेट्स करना शुरू करें, ताकि भारत सरकार पर दबाव बनें।

राहुल गांधी ने इसी वीडियो को शेयर करते हुए अंग्रेजी में लिखा- यूक्रेन में फंसे भारतीयों की स्थिति बदतर होती जा रही है। इसके बावजूद भारत सरकार कोई प्रभावी कदम नहीं उठा रही, ताकि हमारे लोग वापस आ सकें। हमेशा की तरह हमारे प्रधानमंत्री MIA हैं। एमआईए का मतलब होता है मिशिंग इन एक्शन। ये है वीडियो-

कभी भाजपा के दिग्गज नेता पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को मौन कहकर मजाक उड़ाते थे। खुद प्रधानमंत्री मोदी ने संसद में मिलती-जुलती टिप्पणी की है। आज कांग्रेस राहुल गांधी ने उन्हों नया नाम दे दिया-एमआईए अर्थात मिशिंग इन एक्शन।

इससे पहले राहुल गांधी ने एक और भी वीडियो शेयर किया, जिसमें यूक्रेन की पुलिस भारत के छात्र-छात्राओं को बुरी तरह पीट रही है। राहुल ने लिखा-इस वीडियो को उन बच्चों के माता-पिता न देखें। हमारे बच्चों के साथ जिस प्रकार हिंसा की जा रही है उससे मेरा दिल व्यथित है।

‘हार होती देख घबराए भाजपा नेता, कार-घर से उतार रहे झंडा’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*