रंगे हाथ पकड़े गये तीन रिश्वतखोर की गयी नौकरी

विजिलांस द्वारा सरकारी कर्मियों क रंगे हाथों घूस लेते पक़ड़ने की खबरें अकसर आती हैं लेकिन उसके बाद जांच की प्रक्रिया इतनी पेचीदा होती है कि घूसखोरों को सजा दिला पाना आसान नहीं.

लेकिन वर्ष की शुरुआत में यह खबर आना कि रिश्वतखोरो को नौकरी से बर्खास्त भी किया जाने लगा है. पटना जिला प्रशासन ने ऐसे ही तीन रिश्वतखोर कर्मियों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है.

डीएम संजय अग्रवाल ने की कार्रवाई

डीएम संजय अग्रवाल ने की कार्रवाई

12 मार्च 2013 को मनेर अंचल कार्यालय के राजस्व कर्मचारी मानस मनी देहाती को दस हजार रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था। बख्तियारपुर के राजस्व कर्मचारी जनार्दन शर्मा 25 सितंबर 2014 को पांच हजार रुपये रिश्वत लेते निगरानी विभाग ने गिरफ्तार किया था। वहीं, पुनपुन अंचल कार्यालय के लिपिक आलोक कुमार शर्मा को छह हजार रुपये घूस लेते निगरानी ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। इन सभी के विरुद्ध निगरानी विभाग द्वारा प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई थी। इन कर्मियों को अब नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है.

डीएम संजय कुमार अग्रवाल ने निगरानी विभाग द्वारा घूस लेते पकड़े गए कर्मचारियों की सेवा समाप्त करने का आदेश जारी किया. डीएम ने स्पष्ट कहा कि भ्रष्टाचार को जिले में किसी भी स्थिति में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। किसी भी स्तर पर इस प्रकार के मामले सामने आते हैं तो कड़ी कार्रवाई होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*