सेंट्रल हॉल के उद्घाटन में जा रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान

बिहार विधान मंडल भवन के स्थापना दिवस के एक दिन पूर्व 6 फरवरी को विधान मंडल के विस्तारित भवन में बने सेंट्रल हॉल का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार करेंगे। नये भवन के दूसरे तल्ले पर बना है भव्य सेंट्रल हॉल। राज्यपाल इसी सेंट्रल हॉल में विधान मंडल के संयुक्त अधिवेशन को संबोधित करेंगे। सेंट्रल हॉल लाइब्रेरी हॉल के ऊपर बना हुआ है। विधान सभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने आज तैयारी का जायजा लिया।

 

विधान सभा के मुख्य द्वार से पहुंचना है आसान

—————-

सेंट्रल हॉल के उद्घाटन समारोह में शामिल होने जाने के कई रास्ते हैं। लेकिन सबसे आसान रास्ता है विधान सभा के मुख्य द्वार से प्रवेश करना। विधान सभा की पुरानी कैंटिन के बगल से सीधे विस्तारित भवन प्रवेश कर सकते हैं। फिलहाल मुख्यद्वार वही बन गया है। कैंटिन के बगल से आगे निकलते हुए नये भवन में प्रवेश करें और सीढ़ी के रास्ते दूसरी मंजिल पर पहुंच सकते हैं। दूसरी मंजिल पर सेंट्रल हॉल में प्रवेश करने के दो रास्ते हैं। दोनों रास्ते से अंदर प्रवेश कर सकते हैं। करीब तीन सौ से अधिक लोगों की बैठने की व्यवस्था है। तस्वीरों में भी आप देख रहे हैं। प्रेस दीर्घा तीसरी मंजिल पर है, लेकिन उद्घाटन समारोह में इसका इस्तेमाल संभव नहीं दिखता है। इस संबंध में पत्रकारों को अधिकारियों से बात कर लेनी चाहिए।

लिफ्ट के इस्तेमाल से बचें

———————

सेंट्रल हॉल में पहुंचने के लिए लिफ्ट के इस्तेमाल से बचें। चार लिफ्ट लगाये गये हैं। लिफ्ट की क्षमता कम है और भीड़ का दबाव बढ़ सकता है। इस कारण सीढ़ी का इस्तेमाल सुविधाजनक है। सेंट्रल हॉल के दोनों ओर लाउंज भी बना हुआ है। इसका इस्तेमाल तकनीकी कार्यों के लिए किया जाएगा। सेंट्रल हॉल के अंदर विभिन्न पदधारकों लिए आरक्षित एरिया में ही बैठने से अतिथियों को सहूलियत होगी। इससे आयोजकों भी सुविधा होगी।

कार्डधारक को मिलेगा प्रवेश

————————–

उद्घाटन समारोह के लिए विधान सभा सचिवालय की ओर से कार्ड जारी किया गया है। यह कार्ड विधायक, विधान पार्षद के साथ भूतपूर्व सदस्यों के लिए भी जारी किये गये हैं। पदाधिकारियों को भी कार्ड दिये गये हैं। पत्रकारों के‍ लिए विधान सभा की ओर से जारी पास भी मान्य होंगे।

विस्तारित भवन में भटकने की आशंका

————————————

कार्यक्रम में जिस किसी राह से सेंट्रल तक पहुंच रहे हों, चलने-फिरने में सावधानी जरूर बरतें। विस्तारित भवन की गलियां काफी घुमावदार हैं। भटकने की आशंका भी बनी रहेगी। कई हिस्से में निर्माण कार्य चल रहा है। इस वजह से परेशानी हो सकती है। कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सबसे सुविधाजनक और आसान रास्ता विधान सभा से होते हुए विस्तारित भवन पहुंचने का है। इसमें रास्ता भटकने की भी गुंजाईश नहीं है। बुधवार को कार्यक्रम की शुरुआत 11.30 बजे से होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*