‘स्वर्गलोक’पर पुलिस का धावा

होटल में रंगरेलियां मनाते पकड़े गये गया के डेपुटी मेयर की पत्नी के आवास पर पुलिस ने छापामारी की,मगर पहले ही सब भाग चुके थे.पुलिस का दावा है कि वह स्वर्गलोक ब्युटी पार्लर में देह व्यापार चलाती हैं.

मनीषा के घर पर दिसम्बर में पकड़ी थीं लड़कियां

मनीषा के घर पर दिसम्बर में पकड़ी थीं लड़कियां

विनायक विजेता

गया के डिप्टी मेयर ओंकार नाथ उर्फ मोहन श्रीवास्तव को पटना पुलिस ने एक होटल से गिरफ्तार किया था.

गौरतलब है कि गया की कोतवाली थाना पुलिस ने सिटी डीएसपी सोनू कुमार राय के नेतृत्व में बीते 25 दिसम्बर को मनीषा के मकान में चल रहे ‘स्वर्गलोक’ नामक पार्लर में छापेमारी कर अनैतिक देह व्यापार का खुलासा करते हुए देह व्यापार में लिप्त तीन युवतियों को हिरासत में लिया था जिन्हें बाद में पूछताछ के बाद नीजी मुचकले पर छोड़ दिया गया था।
पर उन युवतियों की जमानत किसने ली यह अब भी एक रहस्य है। सूत्र बताते हैं कि मोहन श्रीवास्तव का ही आदमी फर्जी नाम और पते से उन तीनों युवतियों की जमानत ली थी जो युवतीयां आज भी इस धंधे से जुड़ी हैं।

बताया जाता है कि अनैतिक देह व्यापार मामले में पुलिस मनीषा श्रीवास्तव की संपत्ति को अटैच करने की कार्रवाई भी शुरु कर दी है वहीं मोहन श्रीवास्तव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले की भी जांच हो रही है।

गया के एसएसपी निशांत कुमार तिवारी ने संपत्ति एटैच मामले की पुष्टि करते हुए बताया कि अनैतिक देह व्यापार अधिनियम में अनुमंडलाधिकारी को धारा-18 के तहत यह शक्ति प्रदत है कि वह ऐसे मामलों में संलिप्त व्यक्ति के मकान जहां देह व्यापार चल रहा हो को एक वर्ष के लिए कुर्क कर सकते हैं। एसएसपी ने बताया कि ‘स्वर्गलोक’ नामक जिस पार्लर में छापेमारी कर देह व्यापार का खुलासा किया गया वह पार्लर मोहन श्रीवास्तव का भतीजा अमित कुमार के नाम से है।

मनीषा: चकलाघर चलाने का चक्कर

मनीषा: चकलाघर चलाने का चक्कर

अमित ने पुलिस और कोर्ट को दिए गए किराएनामें के डीड एग्रीमेंट और अपने लिखित बयान में यह बताया है कि वह अपनी चाची मनीषा श्रीवास्तव से 50 हजार रुपये कर्ज लेकर इस पार्लर का संचालन कर रहा था जिससे यह जाहिर है कि मनीषा की भी इस मामले में संलिप्तता है जिस आधार पर कार्रवाई की जा रही है। इधर पटना से गिरफ्तार कर बेऊर जेल भेजे गए डिप्टी मेयर ने कई नेताओं को फोन कर मदद करने अन्यथा उनका नाम उजागर करने की धमकी दी है। सूत्रों के अनुसार बेऊर जेल के गंगा खंड के वार्ड संख्या 5/6 में एक ट्रांसपोर्टर की ही हत्या मामले में पहले से ही कैद गया के एक ट्रासपोर्टर की सरपरस्ती में रह रहे मोहन ने शनिवार को कई नेताओं और अपने कई आकाओं को फोन किया। इधर गया से प्राप्त खबरों के अनुसार कायस्थ महासभा की गया इकाई ने पुलिस के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए आज एक आपात बैठक बुलाई है।

सभा का मानना है कि मोहन श्रीवास्तव की गलतियों की सजा उनकी पत्नी को नहीं मिलना चाहिए। तस्वीर- 1-मनीषा श्रीवास्तव की फाइल फोटो 2. मनीषा के मकान में चल रहे पार्लर से पकड़ी गर्इं युवतियां 3- गया के एसएसपी निशांत कुमार तिवारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*