अखिलेश के जिन्ना वाले बयान पर तूफान, योगी ने कहा, माफी मांगें

अखिलेश के जिन्ना वाले बयान पर तूफान, योगी ने कहा, माफी मांगें

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि एक ही संस्था से पटेल, नेहरू, गांधी और जिन्ना ने लॉ की पढ़ाई की। उनके इस कथन को भाजपा ने बनाया बड़ा मुद्दा।

आज अचानक यूपी चुनाव में जिन्ना की एंट्री हो गई। कल सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने हरदोई की सभा में कहा कि पटेल, नेहरू, गांधी और जिन्ना सभी ने एक ही शैक्षणिक संस्था से पढ़ाई की। बैरिस्टर बने। पटेल ने आरएसएस पर प्रतिबंध लगाया। उनके इस बायन के बाद भाजपा ने इसे बड़ा मुद्दा बना दिया है। भाजपा समर्थक ट्विटर पर #जिन्ना_प्रेमी_अखिलेश चला रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अखिलेश यादव देश से माफी मांगें। सभी भाजपा के बड़े नेता अखिलेश को देशद्रोही और राष्ट्रद्रोही बताने में जुट गए हैं।

वहीं, कई लोग बता रहे हैं कि अखिलेश यादव ने एक तथ्य रखा और तथ्य को कोई बदल नहीं सकता कि इन सभी ने एक स्कूल से लॉ की पढ़ाई की। नौकरशाही डॉट कॉम वह वीडियो शेयर कर रहा है। ये देखिए-

इधर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने ट्वीट कि-ा-जिन्ना के प्रति इतना प्यार देख कर तो ऐसा लग रहा है कि भारत-पाकिस्तान मैच के बाद एक-दो फुलझड़ी आपने भी जला ली होगी…।

कल तक यूपी में महंगाई, बेरोजगारी, पुलिस अत्याचार की घटनाएं चर्चा में थी। प्रियंका गांधी ने इन्ही बातों पर गोरखपुर में जोर दिया था। अखिलेश यादव भी इन्हीं मुद्दों पर जोर दे रहे थे। भाजपा लगातार मंदिर, धारा-370 आदि की बात कर रही थी। उसके नेता कह रहे थे कि जिसने कारसेवकों पर गोली चलाई, क्या उसे वोट देंगे? लेकिन धुर्वीकरण की भाजपा की कोशिश पर महंगाई भारी थी। अब भाजपा को एक नया मुद्दा मिल गया है।

अब तक अखिलेश यादव या समाजनादी पार्टी ने भाजपा के आरोप पर कोई जवाब नहीं दिया है। कांग्रेस ने भी कुछ नहीं कहा है। अब देखना है कि क्या यूपी चुनाव महंगाई जैसे मुद्दों से हटकर जिन्ना के मुद्दे पर होगा? भाजपा की कोशिश तो यही है कि चुनाव हिंदू-मुस्लिम मुद्दों पर ही हो।

लेखक और इतिहास के जानकार अशोक कुमार पांडेय ने बताया-एकदम फ़ैक्ट की ही बात करनी है तो नेहरू ने इनर टेम्पल से डिग्री ली, पटेल ने मिडल टेम्पल से, गांधी ने UCL faculty ऑफ़ लॉ से और जिन्ना तथा सावरकर ने सिटी लॉ स्कूल से पढ़ाई की थी।

#Modi_Burns_India दिन भर करता रहा ट्रेंड

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*