पूर्व ब्यूरोक्रेट के सुझाव पर नीतीश ध्यान दें तो चम्पराण में आयेगी आर्थिक क्रांति

पूर्व ब्यूरोक्रेट के सुझाव पर नीतीश ध्यान दें तो चम्पराण में आयेगी आर्थिक क्रांति

बापूधाम ट्रस्ट के चेयरमैन व पूर्व ब्यूरोक्रेट Ajay Prakash Pathak ( AP Pathak) ने बिहार सरकार को सुझाव दिया है कि वह चम्पारण के जलग्रहण क्षेत्रों में मखाने की खेती को प्रोत्साहित कर. इससे किसानों की आय में क्रांतिकारी परिवर्तन होगा.

एपी पाठक ( AP Pathank) ने कहा कि मखाना उत्पादन से प्रति एकड़ 2 से 5 लाख रुपए तक की आय हो सकती है । बिहार में एक एकड़ जलाशय में मखाना का पैदावार 10 से 15 क्विंटल तक हो सकता है।वो भी सिर्फ 5 महीनों में। आधुनिक खेती से साल में दो बार उपज निकाली जा सकती है ,पहले ये साल में एक बार जुलाई तक ही होती थी।

Ajay Praash Pathak ने हा कि नदी ऑर नहरों के किनारे ऑर निचले इलाकों की बेकार जमीन जो नदियों के द्वारा हो गया है उसपे भी मखाना की खेती की जा सकती हैं। सबसे बड़ी बात ये है कि मखाना के लावा के साथ साथ पॉप, कुरकुरे, आटा समेट कई तरह के प्रोडक्ट्स इसके बनने लगे है। बिहार ऑर चंपारण के लिए ये एक तरह से सुनहरा अवसर हो सकता है। मखाना की खेती हर उस जगह पे हो सकती है जहां हम पानी रोक सके।जैसे तालाब, गढ्ढे,खेत।

उन्होंने कहा कि एक आंकड़ों के अनुसार बिहार में लगभग 5 लाख लोग इसके उत्पादन ऑर व्यवसाय से जुड़े हैं।हालांकि तकरीबन 20 लाख लोगों को सरकार प्रोत्साहित करके और जोड़ सकती हैं। सरकार नदियों ऑर नहरों के जल का भंडारण करके, तालाब खुदवा के सब्सिडी देके ऑर तकनीकी प्रशिक्षण देके किसानों को प्रोत्साहित कर सकती हैं। सरकार चाहे तो प्रवासी मजदूरों को इसमें रोजगार दे सकती हैं।

पाठक ने कहा कि सरकार बिहार के लिए मखाना उत्पादन हेतु विशेष पैकेज लाए और बिहार और चंपारण को मखाना उत्पादन का हब बनाए। क्योंकि चंपारण में नदियों और नहरों का भारी संख्या में जलस्रोत हैं. साथ ही ये पूरे बिहार में है । जरूरत है बस आर्थिक ऑर तकनीकी मदद की ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*