EXCLUSSIVE: एक तरफ नाबालिग बिटिया अश्लील गानों पर नाचती रही दूसरी तरफ बिट्टु मिश्रा सम्मान पाती रहीं

EXCLUSSIVE: एक तरफ नाबालिग बिटिया अश्लील गानों पर नाचती रही दूसरी तरफ बिट्टु मिश्रा सम्मान पाती रहीं

  • 12 साल की बेटी भी खाकी वर्दी के सामने रात भर नाचती रही. मामला हरलाखी थाने के परसा, मनोहरपुर, गंगौर सहित कई गांवों का शर्मनाक-:

एक तरफ जागरूकता अभियान संस्था गंगौर की संचालिका बिट्टू मिश्रा पटना में सम्मान पाती रहीं,वहीं दूसरी ओर मधुबनी के परसा(हरलाखी) में रात भर 12 साल की नाबालिग बिटिया अश्लील गानों पर नाचती रहीं।

दीपक कुमार मधुबनी से

हद तो यह कि मनोहरपुर का राम-जानकी मंदिर भी नहीं बच सका। मंदिर परिसर में ही सारी रात तवायफ नाचती रही। सच कहूं तो यह देखने के बाद बिट्टू मिश्रा का यह सम्मान गले से नीचे नहीं उतर रहा।

पूर्व मंत्री सह बाजपट्टी विधायक रंजू गीता के फेसबूक वाल पर वायरल हुआ अश्लील तस्वीर

बिट्टू मिश्रा के तमाम दावों को पानी-पानी करने के लिए यह वीडियो काफी है। इतनी छोटी उम्र में अश्लील गानों पर सारी रात नाचने वाली यह मासूम भी किसी की बेटी है।किसी की मजबूरियों को सरेआम इस तरह नचाना वो भी बिट्टू मिश्रा के घर-आंगन में तो सवाल उठता है।जिस हरलाखी से बिट्टू मिश्रा आती हैं,उसी हरलाखी में दो दर्जन जगहों पर पूजा के नाम पर तवायफों की महफ़िल सारी रात गुलजार होती रही।

इस पाप नृत्य से मनोहरपुर का पवित्र मंदिर भी नहीं बच सका। सारी रात भगवान के मंदिर में तवायफ नाचती रही।हरलाखी के दारोगा को मंदिर के बाबा ने त्राहिमाम संदेश भेज कर नाच को बंद कराने का भी बहुत आग्रह किया,पर बाबा की कोई नोटिस नहीं ली गयी।

मंदिर की पूजा बंद हो गयी पर नाच जारी रहा

मंदिर की पूजा बंद हो गयी,आरती बंद हो गयी,लेकिन नाच बंद नहीं हुआ। सच तो यह है कि इसको नचाने वालों ने नीतीश सरकार और उनकी पुलिस को भी बढ़िया से नचा दिया है।

बिट्टू मिश्रा को पटना में सम्मानित किए जाने की खबर हरलाखी की मीडिया में प्रमुखता से खूब छपी,लेकिन बारह साल की मासूम बेटी रात भर हरलाखी में नाचती रही,मनोहरपुर के मंदिर में तवायफ नाचती रही,यह खबर नहीं बन सकी।

एडिटोरियल कमेंट: तो हम सोनपुर मेले के ताबूत में आखिरी कील ठोकने पर आमादा हैं !

खुद को सम्मानित किए जाने पर पत्रकारों को महिमा मंडित करने में बिट्टू मिश्रा ने कोई कंजूसी नहीं दिखायी। सबका दिल से आभार व्यक्त किया,लेकिन इन मजबूर बेटियों की मजबूरी खबर नहीं बनी,इस पर एक शब्द भी बिट्टू मिश्रा नहीं बोल पायीं।

 

आखिर, यह कैसी जागरूकता अभियान संस्था गंगौर है,जो सोए हुए सिस्टम को लंबे अरसे बाद भी नहीं जगा सकी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*